Skip to main content

RAM और ROM में क्या अंतर है, हिंदी में जानकारी

RAM और ROM में क्या अंतर है 
किसी भी कंप्यूटर को ऑपरेट करने के लिए मेमोरी की आवश्यकता होती है। मेमोरी में उपस्थित कमांड्स ही कंप्यूटर को दिशा निर्देश देते हैं जिससे कि वह सुचारु रूप से काम कर पाता है और इच्छित परिणाम देता है। कंप्यूटर या मोबाइल की मेमोरी में ही उसके फंक्शन से सम्बंधित सारी सूचनाएं उपस्थित होती हैं। कंप्यूटर में मेमोरी दो तरह की होती है एक RAM तथा दूसरी ROM, दोनों ही मेमोरी मिलकर कंप्यूटर या मोबाइल को ऑपरेट करने में मदद करती हैं। RAM और ROM हैं तो दोनों मेमोरी किन्तु दोनों के फंक्शन, बनावट और क्षमता सहित कई अंतर होते हैं। 

RAM क्या होता है कंप्यूटर में आमतौर पर दो प्रकार की मेमोरी होती है एक फिक्स्ड या स्थाई मेमोरी और दूसरी अस्थाई मेमोरी। यह एक चिप के रूप में होता है। RAM कंप्यूटर में एक अस्थाई मेमोरी के रूप में काम करता है। इसमें उपस्थित सभी DATA या INFORMATION तभी तक रहते हैं जबतक कंप्यूटर ऑन रहता है। जैसे ही कंप्यूटर ऑफ होता है इसमें उपस्थित सभी डाटा डिलीट हो जाता है। यही कारण है कि इसे Volatile Memory कहा जाता है। वास्तव में कंप्यूटर के CPU में वर्तमान में जो कार्य…

IAS और PCS किसे कहते हैं, IAS तथा PCS में क्या अंतर है



भारत में अंग्रेजों के आने के साथ ही शासन में कई बदलाव आने शुरू हो गए। अंग्रेजों को अपनी कंपनी को सँभालने के साथ साथ भारत में शांति बनाये रखने के लिए, सुचारु रूप से शासन चलाने के लिए तथा टैक्स कलेक्ट करने के लिए अधिकारीयों की आवश्यकता पड़ी। इसके लिए उन्होंने विभिन्न अधिकारिओं की नियुक्ति आरम्भ की। इसके लिए उन्होंने 1893 ICS यानि इम्पीरियल सिविल सर्विसेज के नाम प्रशासनिक सेवा आरम्भ की। इसमें चुने हुए अधिकारी ICS कहलाते थे। ये अधिकारी अंग्रेजी शासन में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया करते थे। आज़ादी के बाद भी इस सर्विस को ज्यों के त्यों रखा गया किन्तु इसका नाम ICS से बदल कर IAS कर दिया गया। वर्तमान में ये अधिकारी किसी भी सरकार के लिए जनता और शासन के बीच की एक महत्वपूर्ण कड़ी का कार्य करते हैं।

राज्य सरकारें भी अपनी शासन व्यवस्था सुचारु रूप से चलाने के लिए आईएएस की तरह ही अपने अधिकारीयों की नियुक्ति करती हैं इन अधिकारिओं को PCS कहा जाता है। PCS किसी भी राज्य की सम्पूर्ण प्रशासनिक व्यवस्था को जनता तक पंहुचाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। आइए देखते हैं IAS और PCS किसे कहते हैं और दोनों में क्या अंतर है

Image result for district magistrate
IAS क्या होता है

IAS यानि भारतीय प्रशासनिक सेवा भारत की अखिल भारतीय सेवाओं में से प्रशासकीय भाग है। यह सरकार की ब्यूरोक्रेसी का एक बहुत ही महत्वपूर्ण हिस्सा होती है। IAS अधिकारी केंद्र सरकार, राज्य सरकार और सार्वजानिक क्षेत्रों के उपक्रमों में पदस्थापित होते हैं और सरकार के सुचारू रूप से परिचालन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। IAS अधिकारी मुख्य रणनीतिकार की भूमिका निभाते हैं और सरकार की विभिन्न योजनाओं तथा कानूनों को लागू कराते हैं।


IAS अधिकारीयों की भर्ती संघ लोक सेवा UPSC आयोग द्वारा आयोजित सिविल सेवा परीक्षा के द्वारा की जाती है। इस परीक्षा में उत्तीर्ण प्रतिभागियों का आवंटन भारत सरकार द्वारा राज्यों को किया जाता है। इस परीक्षा में टॉप मेरिट वाले प्रतिभागियों का ही सिलेक्शन IAS के लिए होता है। अन्य को आईपीएस और आईएफएस में लिया जाता है।
Image result for ias officer image

IAS का पद एक बहुत ही गरिमा का और जिम्मेदारियों से भरा हुआ होता है। यह सरकार के वेस्टमिंस्टर प्रणाली के बाद अन्य देशों की तरह स्थायी ब्यरोक्रेसी के रूप में भारत सरकार के कार्यकारी का एक अभिभाज्य अंग हैं।

आईएएस की भर्ती के लिए UPSC हर वर्ष सिविल सर्विसेज की परीक्षा आयोजित करवाता है। इस परीक्षा के तीन चरण होते हैं प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार। अभियर्थियों को तीनों ही परीक्षाओ में उत्तीर्ण होना होता है।




PCS क्या है

UPSC के तर्ज पर राज्यों की अपनी पब्लिक सर्विस कमीशन होती है। उत्तर प्रदेश आदि राज्यों में इसे PCS कहा जाता है। कई अन्य राज्यों में इसे लोक सेवा आयोग या पब्लिक सर्विस कमीशन कहा जाता है। जैसे बिहार पब्लिक सर्विस कमीशन BPSC आदि। इन पब्लिक सर्विस कमिशनों के द्वारा विभिन्न अधिकारीयों की नियुक्ति परीक्षा के माध्यम से होती है। इन अधिकारीयों को PCS कहा जाता है। PCS का फुलफॉर्म होता है प्रोविंशियल सिविल सर्विसेज जिसे हिंदी में प्रांतीय सिविल सेवा कहा जाता है। इसमें सफल अभियर्थियों को SDM, ARTO, DSP, BDO, जिला अल्पसंख्यक अधिकारी, जिला खाद्य विपणन अधिकारी, अस्सिस्टेंट कमिश्नर व्यापर कर आदि उच्च तथा महत्वपूर्ण पदों पर नियुक्ति होती है।


Image result for provincial civil services


PCS चूँकि राज्य विशेष की परीक्षा होती है अतः इसमें उसी राज्य के अभियर्थियों को भाग लेने की अनुमति होती है। किन्तु इसका यह मतलब नहीं है कि अन्य राज्य के अभियार्थी बिलकुल ही भाग नहीं ले सकते। अन्य राज्यों के अभियर्थिओं के भाग लेने के लिए अलग प्रावधान होता है। जिसके अनुसार वे भी इस परीक्षा में भाग ले सकते हैं। PCS अधिकारीयों की नियुक्ति जिस राज्य में होती है उसी राज्य में उनका तबादला होता है किसी दूसरे राज्य में इनका तबादला नहीं हो सकता।

PCS की नियुक्ति के लिए राज्य हर वर्ष एक परीक्षा कराता है। यह परीक्षा त्रिस्तरीय होती है जिसमे प्रारंभिक परीक्षा और मुख्य परीक्षा के अलावा साक्षात्कार होता है। इन तीनों ही स्तरों में सफल अभियर्थियों की नियुक्ति राज्य के विभिन्न महत्वपूर्ण पदों पर होती है। ये अधिकारी राजस्व विभाग के संचालन से लेकर कानून व्यवस्था के रख रखाव आदि कई पदों पर अपनी जिम्मेदारियों का वहां करते हैं।




IAS तथा PCS में क्या अंतर है



  • आईएएस का चुनाव UPSC द्वारा आयोजित सिविल सर्विसेज की परीक्षा के द्वारा किया जाता है वहीँ PCS की भर्ती राज्य लोक सेवा आयोग द्वारा राज्य सिविल सेवा परीक्षा की परीक्षा में उत्तीर्ण अभियर्थियों से की जाती है।

  • आईएएस की भर्ती और सेवा सम्बन्धी मामलों का फैसला केंद्र द्वारा स्थापित केंद्रीय प्रशासनिक न्यायधिकरण द्वारा किया जाता है जबकि PCS की भर्ती और सेवा सम्बन्धी मामलों का फैसला सम्बंधित राज्य सरकारों के विशेष अनुरोध पर केंद्र द्वारा स्थापित राज्य प्रशासनिक न्यायधिकरण करता है।
Image result for indian administrative service logo

  • UPSC सिविल सर्विसेस की परीक्षा में अनिवार्य योग्यता एप्टीट्यूड परीक्षा सीसैट होती है जिससे अभियर्थियों की तर्क शक्ति का पता चलता है राज्य लोक सेवा आयोग की परीक्षा में सीसैट का पेपर हो भी सकता है और नहीं भी।

  • UPSC की परीक्षा में क्वालीफाइंग क्षेत्रीय भाषा का पेपर होता है वहीँ PCS के लिए राज्य लोक सेवा आयोग की परीक्षाओं में अनिवार्य रूप से क्षेत्रीय भाषा या सांख्यिकी का पेपर होता है।

  • UPSC की परीक्षा में प्रश्न तथ्यात्मक की तुलना में अवधारणात्मक ज्यादा होते हैं वहीँ राज्य लोक सेवा आयोग परीक्षा में अवधरणांत्मक की बजाय तथ्यात्मक प्रश्नों पर ज्यादा जोर दिया जाता है।
Image result for provincial civil services
  • IAS अधिकारीयों की नियुक्ति भारत के राष्ट्रपति के द्वारा होती है तो भी उन्हें राज्य सरकारों के अधीन कार्य करने पड़ते हैं। PCS अधिकारीयों की नियुक्ति राजयपाल के द्वारा होती है अतः ये राज्य सरकार के नियंत्रण में कार्य करते हैं।

  • आईएएस अधिकारी को उसकी सेवा से बर्खास्त करने का अधिकार केवल केंद्र सरकार का होता है वहीँ PCS को निष्कासित करने का अधिकार सम्बंधित राज्य सरकार को होता है।

  • आईएएस का वेतन पुरे देश में एक सामान होता है और इनका वेतन कैडर राज्य के द्वारा दिया जाता है। PCS जिन राज्यों से सम्बंधित होते हैं वही राज्य उनके वेतन के लिए उत्तरदायी होते हैं। PCS का वेतन अलग अलग राज्य में अलग अलग होता है।

  • एक आईएएस अधिकारी SDM स्वतंत्र प्रभार से अपना कार्यकाल शुरू करके भारत सरकार में सचिव तक पदोन्नत हो सकता है वहीँ एक PCS अधिकारी की पदोन्नति की रफ़्तार बहुत ही धीमी होती है और अपने उच्चत्तम पद तक पंहुचते पंहुचते प्रायः रिटायर हो जाते हैं।
Image result for bpsc
  • आईएएस अधिकारीयों का ट्रांसफर अपने काडर स्टेट के इतर भी हो सकता है उनकी नियुक्ति विदेशों में भी हो सकती है किन्तु PCS अधिकारिओं का तबादला अपने राज्य के अंतर्गत ही हो सकता है।

  • आईएएस अधिकारीयों की सैलरी और पेन्सन उनके काडर राज्य का मामला होता है वहीँ PCS अधिकारीयों की सैलरी और पेन्सन की व्यवस्था उनकी राज्य की सरकार करती है।




आईएएस और PCS दोनों ही अति महत्वपूर्ण पद हैं जो क्रमशः केंद्र और राज्यों की सेवाओं में अपना योगदान देते हैं। दोनों तरह के अधिकारिओं का काम प्रशासन संभालना होता है और सरकार और जनता के बीच की कड़ी के रूप में अपना योगदान देना होता है। ये सरकार की योजनाओं और कानूनों के इम्प्लीमेंटेशन के साथ साथ सरकार के शासन सम्बंधित रणनीतियों में अपना योगदान देते हैं।

Comments

Popular posts from this blog

आमंत्रण और निमंत्रण में क्या अंतर है

किसी भी भाषा में कई शब्द ऐसे होते हैं जो सुनने या देखने में एक सामान लगते हैं। यहाँ तक कि व्यवहार में भी वे एक सामान लगते हैं। और कई बार इस वजह से उनके प्रयोग में लोग गलतियां कर बैठते हैं। आमंत्रण और निमंत्रण भी इसी तरह के शब्द हैं। अकसर लोगों को आमंत्रण की जगह निमंत्रण और निमंत्रण की जगह आमंत्रण का प्रयोग करते हुए देखा जाता है। हालांकि दोनों के प्रयोग में मंशा किसी को बुलाने की ही होती है अतः लोग अर्थ समझ कर उसी तरह की प्रतिक्रिया करते हैं अर्थात उनके यहाँ चले जाते हैं और कोई बहुत ज्यादा परेशानी नहीं होती है। किन्तु यदि शब्दों की गहराइयों में जाया जाय तो दोनों शब्दों में फर्क है और दोनों के प्रयोग करने के अपने नियम और सन्दर्भ हैं। 

आमंत्रण और निमंत्रण में क्या अंतर है

आमंत्रण और निमंत्रण दोनों शब्दों में मन्त्र धातु का प्रयोग किया गया है जिसका अर्थ है मंत्रणा करना अर्थात बात करना या बुलाना होता है परन्तु "आ" और "नि" प्रत्ययों की वजह से उनके अर्थों में थोड़ा फर्क आ जाता है। 



इन दोनों में अंतर को शब्दकल्पद्रुम शब्दकोष से अच्छी तरह समझा जा सकता है 
"अत्र यस्याकारणे प…

विकसित और विकासशील देशों में क्या अंतर है ?

समाचारपत्रों, पत्रिकाओं और रेडियो टीवी न्यूज़ में जब भी किसी देश की चर्चा होती है तब एक शब्द अकसर प्रयोग किया जाता है विकसित देश या विकासशील देश। भारत के सन्दर्भ में अकसर विकासशील शब्द का प्रयोग किया जाता है। विकसित और विकासशील शब्दों से कुछ बातें तो समझ में आ ही जाती है कि वैसे देश जो काफी विकसित हैं उनको विकसित देश तथा वे देश जो विकास की प्रक्रिया में हैं उनको विकासशील देश कहा जाता है किन्तु आईये देखते हैं दोनों में बुनियादी अंतर क्या है।
संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा विश्व के देशों को उनकी मानव विकास सूचकांक HDI ,जीडीपी, प्रति व्यक्ति आय, जीवन स्तर, शिक्षा का स्तर, मृत्यु दर आदि के आधार पर दो वर्गों में बांटा गया है विकसित  देश और विकासशील देश। विकसित देशों में प्रति व्यक्ति आय अधिक होने की वजह से जीवन स्तर उच्च होता है।  बेरोजगारी, भुखमरी, कुपोषण आदि समस्याएं प्रायः नहीं होती है। ऐसे देशों में आधारभूत संरचनाओं का जाल बिछा होता है और ये देश औद्योगीकरण के मामले में भी काफी समृद्ध होते हैं। अमेरिका, जापान, फ्रांस, जर्मनी आदि इन्हीं देशों की श्रेणी में आते हैं।
विकासशील देश ठीक इसके उलट कई …

Android Mobile Aur Windows Mobile Phone Me Kya Antar Hai Hindi Me Jankari

सुचना क्रांति के इस दौर ने हर हाथ में मोबाइल फोन पंहुचा दिया है। मोबाइल ने भी काफी विकास कर लिया है और वह स्मार्ट फोन बन चूका है। जब से बाजार में स्मार्ट मोबाइल फोन्स का दौर चला है तब से एक चर्चा और भी चली है एंड्राइड फोन और विंडोज फोन। एंड्राइड फोन बेहतर कि विंडोज फोन। लोग अक्सर कन्फ्यूज्ड हो जाते हैं आखिर दोनों में अंतर क्या है? स्मार्ट फोन को स्मार्ट बनाने के लिए उसे एक ओएस यानि ऑपरेटिंग  सिस्टम की आवश्यकता होती है। यही ओएस उसे एंड्राइड या विंडोज फोन बनाता है। वास्तव में ओएस एक सॉफ्टवेयर प्रोग्राम है जो यूजर और हार्डवेयर के बीच एक इंटरफ़ेस का काम करता है। यही ओएस मोबाइल को यूजर फ्रेंडली बनाता है। ओएस की मदद से ही हम मोबाइल या कंप्यूटर चला पाते हैं। 
एंड्राइड मोबाइल फोन क्या है ? वैसे मोबाइल फोन जिसमे ऑपरेटिंग सिस्टम के रूप में एंड्राइड ऑपरेटिंग सिस्टम यानि एंड्राइड सॉफ्टवेयर का प्रयोग किया जाता है एंड्राइड मोबाइल कहलाते हैं। यह ओपन सोर्स कोड पर आधारित होता है जिसके लिए लाखों ऍप्लिकेशन्स उपलब्ध है।  
विंडोज मोबाइल फोन क्या है ? वैसे स्मार्ट फोन जो सुचारु रूप से काम करने के लिए विंडोज ऑपरेट…