Skip to main content

पानी पूरी और फूचका में क्या अंतर है



पानीपूरी की चर्चा हो और मुंह में पानी न आवे ऐसा संभव नहीं। पानीपूरी कमोवेश पुरे भारत में लोकप्रिय एक ऐसा व्यंजन है जिसके सभी दीवाने हैं। लड़कियों में तो इसकी खासी डिमांड रहती है। दो चार फुलकी अंदर और आपका दिमाग एकदम रिफ्रेश हो जाता है। इसका क्रिस्पी होना, खट्टा और तीखा होना इसकी यूएसपी होती है। 


Image result for paani puri


पानीपूरी एक हल्का स्नैक है जिसकी डिमांड शाम को सबसे ज्यादा रहती है। यह भारत के अलग अलग क्षेत्रों में अलग अलग नामों से जानी जाती है। जहाँ बंगाल, झारखण्ड आदि में इसे फुचका के नाम से जाना जाता है वहीँ बिहार उड़ीसा आदि में इसे गुपचुप कहा जाता है। पूर्वी उत्तरप्रदेश मध्यप्रदेश के कुछ भागों में इसे फुलकी भी कहा जाता है। पश्चिम उत्तर प्रदेश राजस्थान आदि क्षेत्रों में इसका नाम गोलगप्पा है।
गोलगप्पे का इतिहास 


गोलगप्पे के अविष्कार के बारे में कई कथाएं प्रचलित हैं। इन्ही में से एक कथा महाभारत से निकली है। एक बार कुंती ने द्रौपदी को एकदम थोड़ा सा आटा और कई प्रकार की सब्जी देकर कहा, इससे कुछ ऐसा बनाओ जिसे पांचों पांडव खा सके। चूँकि आटा बहुत थोड़ा था उससे सबको रोटी बनाकर नहीं दिया जा सकता था अतः द्रौपदी ने एक नयी चीज़ पकाया। द्रौपदी ने आटे से एकदम छोटी छोटी पूड़ियाँ बनाया और उसमे छेदकर सब्ज़ी भर दिया। इस व्यंजन को उसने सबको परोस दिया। इस नए व्यंजन को सबने खूब पसंद किया। और कहते हैं कि तभी से गोलगप्पे की शुरुवात हुई। गोलगप्पे के पीछे एक और कहानी कही जाती है। 


Image result for phuchka

एक बार बनारस में एक वैद ने हाज़मा सही करने के लिए एक पेय बनाया जो खट्टा,मीठा और तीखा भी था। लोगों ने इसे पूड़ी में भर भरकर खाना शुरू कर दिया और तब से इसका प्रचलन शुरू हो गया। कई जगह गोलगप्पों का इतिहास मगध से जोड़ा जाता है। उस समय इसे फुलकीस कहा जाता था किन्तु आज के गोलगप्पे और फुलकीस एक ही हो यह कहा नहीं जा सकता क्योंकि गोलगप्पों में पड़ने वाला आलू हमारे देश में पुर्तगालियों के साथ आयी और गोलगप्पों को तीखा बनाने वाली लाल मिर्च भी भारत में बहुत पुरानी नहीं थी। मिथकों को अगर हम किनारे रखे तो भी गोलगप्पों का सबसे पहले जिक्र 1951 मिलता है जबकि पानीपूरी शब्द सबसे पहले 1955 में प्रयोग में आया।
Image result for paani puri

गोलगप्पे की किस्में 

गोलगप्पे की भारत में कम से कम बीस किस्मे प्रचलन में हैं साथ ही इसे कई नामों से जाना जाता है। गोल गोल पूड़ियों को गप्प से खाने से गोलगप्पा नाम पड़ा होगा ऐसा प्रतीत होता है वहीँ मुंह में जाकर फचाक की आवाज से शायद इसे लोग फुचका कहने लगे होंगे। पानी से भरी पूड़ी की वजह से कंही इसे पानीपूरी तो फूली हुई होने के कारण फुलकी भी कहा जाने लगा होगा। गुप् से मुंह में रखकर चुपचाप खाने की वजह से शायद इसे गुपचुप भी कहा गया।

जहाँ तक कैलोरी की बात करें तो चार फुचके में एक रोटी के बराबर कैलोरी ऊर्जा मिलती है। नमक से परहेज करने वाले लोगों को इसे कम ही खाना चाहिए। 


Image result for paani puri


गोलगप्पे के अलग अलग नाम 

भारत के अलग अलग हिस्से में इसके अलग अलग नाम हैं। इसके साथ ही इसमें फीलिंग और स्वाद भी जगह जगह बदलते रहते हैं। कई जगह गोलगप्पे गोल न होकर लम्बे होते हैं। उत्तर भारत में इसे गोलगप्पा कहा जाता है। इसमें तीखी मीठी चटनी इमली का पानी प्रयोग किया जाता है। महाराष्ट्र, गुजरात, मध्यप्रदेश, साऊथ इंडिया में इस डिश का नाम पानीपूरी है। इन क्षेत्रों में यह काफी लोकप्रिय शाम का नाश्ता है। हरियाणा में इसे पानी के बताशे कहा जाता है। तो गुजरात के कुछ हिस्सों में इसे पकौड़ी भी कहा जाता है। यहाँ इसमें प्याज और सेव भरा जाता है। राजस्थान और उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में इसे पताशी भी बोला जाता है। गोलगप्पे का एक और भी बड़ा लोकप्रिय नाम है यह है फुचका। पश्चिम बंगाल, असम, झारखण्ड आदि में इसे फुचका ही बोला जाता है। उड़ीसा, छत्तीसगढ़, बिहार आदि क्षेत्रों में इसका नाम गुपचुप है। पूर्वी उत्तर प्रदेश, गुजरात के कुछ भागों में इसे फुलकी भी बोला जाता है। मध्य प्रदेश के होशंगाबाद में गोलगप्पे का नाम टिक्की हो जाता है।

Image result for paani puri


पानी पूरी और फूचका में क्या अंतर है

  • हालाँकि पानीपुरी और फुचका में कोई खास फर्क नहीं है किन्तु महाराष्ट्र, गुजरात और मध्यप्रदेश के कुछ हिस्सों में इसे पानीपूरी कहा जाता है जबकि बंगाल, उड़ीसा, झारखण्ड आदि क्षेत्रों में इसे फुचका कहा जाता है।
  • पानीपूरी में फीलिंग के लिए सफ़ेद मटर का प्रयोग किया जाता है वहीँ फुचका में फीलिंग के लिए आलू का चोखा और मटर अनिवार्य है।
  • पानीपूरी में अंदर जो पानी भरा जाता है उसका स्वाद तीखा, मीठा और खट्टा होता है वहीँ फुचका में प्रयोग होने वाला पानी प्रायः तीखा होता है।

  • पानीपूरी साइज के मामले में बड़े बड़े होते हैं किन्तु फुचका का साइज अपेक्षाकृत ज्यादा बड़ा और ज्यादा ब्राउन होता है।

  • पानीपूरी की स्टफिंग में तीखे का प्रयोग अलग से प्रायः नहीं होता है जबकि फुचका में प्रायः अलग से तीखे का प्रयोग होता है।
Image result for phuchka

पानी पूरी, गोलगप्पे या फुचके में स्टफिंग के आधार पर कई एक्सपेरिमेंट किये जाते रहे हैं और नए नए फ्लेवर अकसर सामने आते रहते हैं। कई बार तो इसमें पनीर, नॉन वेज , वाइन आदि का प्रयोग करके कुछ नया ही स्वाद लाने का प्रयास किया जाता है किन्तु जो मजा ठेले वाले के पास जाकर लाइन से एक एक करके इसे खाने का है और लास्ट में एक फ्री में खाने का है वह और कहीं नहीं आने वाला है।

Comments

Popular posts from this blog

आमंत्रण और निमंत्रण में क्या अंतर है

किसी भी भाषा में कई शब्द ऐसे होते हैं जो सुनने या देखने में एक सामान लगते हैं। यहाँ तक कि व्यवहार में भी वे एक सामान लगते हैं। और कई बार इस वजह से उनके प्रयोग में लोग गलतियां कर बैठते हैं। आमंत्रण और निमंत्रण भी इसी तरह के शब्द हैं। अकसर लोगों को आमंत्रण की जगह निमंत्रण और निमंत्रण की जगह आमंत्रण का प्रयोग करते हुए देखा जाता है। हालांकि दोनों के प्रयोग में मंशा किसी को बुलाने की ही होती है अतः लोग अर्थ समझ कर उसी तरह की प्रतिक्रिया करते हैं अर्थात उनके यहाँ चले जाते हैं और कोई बहुत ज्यादा परेशानी नहीं होती है। किन्तु यदि शब्दों की गहराइयों में जाया जाय तो दोनों शब्दों में फर्क है और दोनों के प्रयोग करने के अपने नियम और सन्दर्भ हैं। 

आमंत्रण और निमंत्रण में क्या अंतर है

आमंत्रण और निमंत्रण दोनों शब्दों में मन्त्र धातु का प्रयोग किया गया है जिसका अर्थ है मंत्रणा करना अर्थात बात करना या बुलाना होता है परन्तु "आ" और "नि" प्रत्ययों की वजह से उनके अर्थों में थोड़ा फर्क आ जाता है। 



इन दोनों में अंतर को शब्दकल्पद्रुम शब्दकोष से अच्छी तरह समझा जा सकता है 
"अत्र यस्याकारणे प…

विकसित और विकासशील देशों में क्या अंतर है ?

समाचारपत्रों, पत्रिकाओं और रेडियो टीवी न्यूज़ में जब भी किसी देश की चर्चा होती है तब एक शब्द अकसर प्रयोग किया जाता है विकसित देश या विकासशील देश। भारत के सन्दर्भ में अकसर विकासशील शब्द का प्रयोग किया जाता है। विकसित और विकासशील शब्दों से कुछ बातें तो समझ में आ ही जाती है कि वैसे देश जो काफी विकसित हैं उनको विकसित देश तथा वे देश जो विकास की प्रक्रिया में हैं उनको विकासशील देश कहा जाता है किन्तु आईये देखते हैं दोनों में बुनियादी अंतर क्या है।
संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा विश्व के देशों को उनकी मानव विकास सूचकांक HDI ,जीडीपी, प्रति व्यक्ति आय, जीवन स्तर, शिक्षा का स्तर, मृत्यु दर आदि के आधार पर दो वर्गों में बांटा गया है विकसित  देश और विकासशील देश। विकसित देशों में प्रति व्यक्ति आय अधिक होने की वजह से जीवन स्तर उच्च होता है।  बेरोजगारी, भुखमरी, कुपोषण आदि समस्याएं प्रायः नहीं होती है। ऐसे देशों में आधारभूत संरचनाओं का जाल बिछा होता है और ये देश औद्योगीकरण के मामले में भी काफी समृद्ध होते हैं। अमेरिका, जापान, फ्रांस, जर्मनी आदि इन्हीं देशों की श्रेणी में आते हैं।
विकासशील देश ठीक इसके उलट कई …

Android Mobile Aur Windows Mobile Phone Me Kya Antar Hai Hindi Me Jankari

सुचना क्रांति के इस दौर ने हर हाथ में मोबाइल फोन पंहुचा दिया है। मोबाइल ने भी काफी विकास कर लिया है और वह स्मार्ट फोन बन चूका है। जब से बाजार में स्मार्ट मोबाइल फोन्स का दौर चला है तब से एक चर्चा और भी चली है एंड्राइड फोन और विंडोज फोन। एंड्राइड फोन बेहतर कि विंडोज फोन। लोग अक्सर कन्फ्यूज्ड हो जाते हैं आखिर दोनों में अंतर क्या है? स्मार्ट फोन को स्मार्ट बनाने के लिए उसे एक ओएस यानि ऑपरेटिंग  सिस्टम की आवश्यकता होती है। यही ओएस उसे एंड्राइड या विंडोज फोन बनाता है। वास्तव में ओएस एक सॉफ्टवेयर प्रोग्राम है जो यूजर और हार्डवेयर के बीच एक इंटरफ़ेस का काम करता है। यही ओएस मोबाइल को यूजर फ्रेंडली बनाता है। ओएस की मदद से ही हम मोबाइल या कंप्यूटर चला पाते हैं। 
एंड्राइड मोबाइल फोन क्या है ? वैसे मोबाइल फोन जिसमे ऑपरेटिंग सिस्टम के रूप में एंड्राइड ऑपरेटिंग सिस्टम यानि एंड्राइड सॉफ्टवेयर का प्रयोग किया जाता है एंड्राइड मोबाइल कहलाते हैं। यह ओपन सोर्स कोड पर आधारित होता है जिसके लिए लाखों ऍप्लिकेशन्स उपलब्ध है।  
विंडोज मोबाइल फोन क्या है ? वैसे स्मार्ट फोन जो सुचारु रूप से काम करने के लिए विंडोज ऑपरेट…