Skip to main content

शिया और सुन्नी मुसलमानों में क्या अंतर है

शिया और सुन्नी मुसलमानों में क्या अंतर है

ईसाई धर्म के बाद अगर दुनिया में किसी धर्म के अनुयायी हैं तो वह इस्लाम धर्म के हैं। दुनियां में पचास से भी ज्यादा देश मुस्लिम बाहुल्य हैं। इसके अलावा मुस्लिम पूरी दुनिया के करीब करीब हर देश में हैं। इस्लाम के अनुयायिओं की इतनी संख्या होते हुए भी यह मजहब कई सम्प्रदायों में बंटा हुआ है जिसमे शिया और सुन्नी प्रमुख हैं। वैसे तो शिया और सुन्नी दोनों ही इस्लाम को ही मानने वाले हैं पर कई बातों में शिया और सुन्नी दोनों में अंतर है। आईये देखते हैं शिया और सुन्नी क्या हैं और शिया और सुन्नी दोनों में क्या अंतर है 


शिया मुस्लिम और उनका इतिहास इस्लाम धर्म कई सम्प्रदायों में बंटा हुआ है। शिया मुस्लिम भी इन्ही में से एक होते हैं। शिया मुस्लिमों का पुरे इस्लाम में सुन्नियों के बाद दूसरा स्थान है। वैसे तो इनकी संख्या पूरी मुस्लिम आबादी का केवल 15 प्रतिशत ही है। शिया मुस्लिमों का इतिहास मोहम्मद साहेब की मृत्यु के बाद से ही शुरू होता है। शियाओं के उदय की वास्तविक वजह उत्तराधिकार विवाद था। सन 632 में मोहम्मद साहेब की मृत्यु के पश्चात् उनकी ग़दीर की वसीयत के मुताबिक ह…

लोकसभा और राज्य सभा में क्या अंतर है




भारतीय संविधान के अनुसार संसद के दो सदनों की व्यवस्था की गयी है। इसमें निचले सदन को लोकसभा और ऊपरी सदन को राज्य सभा कहते हैं। भारत के राष्ट्रपति इन्हीं दोनों सदनों के द्वारा भारत में शासन की व्यवस्था करते हैं। लोकसभा के पास वास्तविक कार्यकारी शक्तियां होती हैं जबकि राज्य सभा जिसे राज्यों का सदन भी कहते हैं लोकसभा के द्वारा पारित प्रस्ताव का पुनरीक्षण करती हैं। आईये देखते हैं लोकसभा और राज्य सभा क्या हैं और इनमे क्या अंतर होता है




लोकसभा क्या है

भारतीय संसद के दो सदन होते हैं लोक सभा और राजयसभा। इसमें लोकसभा संसद का निचला सदन होता है। इसके सदस्यों का निर्वाचन वयस्क मताधिकार के द्वारा प्रत्यक्ष चुनाव द्वारा होता है। हमारे संविधान के अनुसार लोकसभा में सदस्यों की संख्या अधिकत्तम 552 हो सकती है जिसमे 530 सदस्य विभिन्न राज्यों का और 20 सांसद केंद्र शासित प्रदेशों का प्रतिनिधित्व करते हैं। यदि राष्ट्रपति को ऐसा महसूस होता है कि एंग्लो इंडियन समुदाय को उचित प्रतिनिधित्व नहीं मिला है तो वे उस समुदाय से दो सदस्यों को लोक सभा के लिए नामित कर सकते हैं। यदि लोकसभा बीच में भंग न हो तो इसकी अवधि पांच साल की होती है।

Image result for sansad bhavan

राज्य सभा क्या है




यह भारतीय संसद की ऊपरी प्रतिनिधि सभा होती है। इस सभा में 245 सदस्य होते हैं। इन सदस्यों को सांसद कहा जाता है। इन सांसदों में 12 सांसद भारत के राष्ट्रपति के द्वारा कला, साहित्य, खेल आदि विभिन्न क्षेत्रों में से मनोनीत किया जाता है। शेष अन्य सदस्यों का चुनाव होता है। राज्य सभा एक स्थाई सदन है किन्तु इसके सदस्यों की कार्यावधि 6 साल होती है। राज्य सभा के एक तिहाई सदस्य हर दो साल में सेवानिवृत होते हैं। राज्य सभा लोकसभा द्वारा पास किये गए प्रस्तावों की पुनरीक्षा करती है। भारत के उपराष्ट्रपति राजयसभा के सभापति होते हैं।

Image result for lok sabha bhavan


लोकसभा और राज्य सभा में क्या अंतर है 


  • लोकसभा भारतीय संसद का निचला सदन है जबकि राज्यसभा संसद का ऊपरी सदन होता है।


  • लोकसभा के सदस्यों का प्रत्यक्ष चुनाव वयस्क मताधिकार द्वारा होता है जबकि राजयसभा के सदस्यों का चुनाव राज्यों के विधानसभा सदस्यों द्वारा अप्रत्यक्ष रूप से आनुपातिक प्रतिनिधित्व के अनुसार एकल संक्रमणीय मत द्वारा होता है।

  • लोकसभा का विघटन हो सकता है किन्तु राज्यसभा का विघटन नहीं होता।

  • लोकसभा के सदस्यों की संख्या अधिकत्तम 552 होती है जिसमे 530 सदस्यों राज्यों से तथा 20 सदस्य केंद्र शाषित प्रदेशों से चुने जाते हैं तथा दो सदस्यों को राष्ट्रपति मनोनीत करते हैं जबकि राज्य सभा के सदस्यों की संख्या 245 होती है। इन सदस्यों में 12 सदस्य को भारत के राष्ट्रपति कला,विज्ञानं, साहित्य, खेल आदि क्षेत्रों के विशेषज्ञ लोगों में से मनोनीत करते हैं।

  • लोकसभा के सदस्य पांच वर्ष के लिए चुने जाते हैं जबकि राज्य सभा के सदस्यों का चुनाव 6 साल के लिए होता है।

  • धन विधेयक केवल लोकसभा में ही पेश किया जा सकता है। यह सदन देश में शासन चलने हेतु धन आवंटित करता है जबकि राज्य सभा में धन विधेयक सम्बंधित अधिक अधिकार प्राप्त नहीं हैं।

  • केंद्रीय मंत्री परिषद् सामूहिक रूप से लोकसभा के प्रति उत्तरदायी होता है जबकि मंत्री परिषद् राज्य सभा के प्रति सामूहिक रूप से उत्तरदायी नहीं होता है।

  • यदि कोई कैबिनेट मंत्री किसी विधेयक को लोकसभा में पास नहीं करवा पता तो पूरी कैबिनेट को इस्तीफा देना पड़ता है जबकि राज्य सभा में यदि विधेयक पारित नहीं होता तो पूरी कैबिनेट को इस्तीफा नहीं देना पड़ता है।

  • लोकसभा अध्यक्ष का चुनाव लोकसभा के सदस्य मिल कर करते हैं। लोकसभा के अध्यक्ष को स्पीकर कहते हैं। राज्य सभा का अध्यक्ष भारत के उपराष्ट्रपति होते हैं।

  • भारत के राष्ट्रपति लोकसभा में दो सदस्यों को मनोनीत कर सकते हैं जबकि राज्यसभा में वे बारह सदस्यों को मनोनीत कर सकते हैं।

  • लोकसभा के सदस्य होने की न्यूनत्तम आयु 25 वर्ष होती है जबकि राज्यसभा के सदस्यों के लिए यह सीमा 30 वर्ष है।
Image result for internal scene of sansad



इतने अंतरों के बावजूद दोनों सदनों की अपनी अपनी महत्ता है और सरकार चलाने दोनों सदनों का भरपूर योगदान होता है।

Comments

Popular posts from this blog

आमंत्रण और निमंत्रण में क्या अंतर है

किसी भी भाषा में कई शब्द ऐसे होते हैं जो सुनने या देखने में एक सामान लगते हैं। यहाँ तक कि व्यवहार में भी वे एक सामान लगते हैं। और कई बार इस वजह से उनके प्रयोग में लोग गलतियां कर बैठते हैं। आमंत्रण और निमंत्रण भी इसी तरह के शब्द हैं। अकसर लोगों को आमंत्रण की जगह निमंत्रण और निमंत्रण की जगह आमंत्रण का प्रयोग करते हुए देखा जाता है। हालांकि दोनों के प्रयोग में मंशा किसी को बुलाने की ही होती है अतः लोग अर्थ समझ कर उसी तरह की प्रतिक्रिया करते हैं अर्थात उनके यहाँ चले जाते हैं और कोई बहुत ज्यादा परेशानी नहीं होती है। किन्तु यदि शब्दों की गहराइयों में जाया जाय तो दोनों शब्दों में फर्क है और दोनों के प्रयोग करने के अपने नियम और सन्दर्भ हैं। 

आमंत्रण और निमंत्रण में क्या अंतर है

आमंत्रण और निमंत्रण दोनों शब्दों में मन्त्र धातु का प्रयोग किया गया है जिसका अर्थ है मंत्रणा करना अर्थात बात करना या बुलाना होता है परन्तु "आ" और "नि" प्रत्ययों की वजह से उनके अर्थों में थोड़ा फर्क आ जाता है। 



इन दोनों में अंतर को शब्दकल्पद्रुम शब्दकोष से अच्छी तरह समझा जा सकता है 
"अत्र यस्याकारणे प…

विकसित और विकासशील देशों में क्या अंतर है ?

समाचारपत्रों, पत्रिकाओं और रेडियो टीवी न्यूज़ में जब भी किसी देश की चर्चा होती है तब एक शब्द अकसर प्रयोग किया जाता है विकसित देश या विकासशील देश। भारत के सन्दर्भ में अकसर विकासशील शब्द का प्रयोग किया जाता है। विकसित और विकासशील शब्दों से कुछ बातें तो समझ में आ ही जाती है कि वैसे देश जो काफी विकसित हैं उनको विकसित देश तथा वे देश जो विकास की प्रक्रिया में हैं उनको विकासशील देश कहा जाता है किन्तु आईये देखते हैं दोनों में बुनियादी अंतर क्या है।
संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा विश्व के देशों को उनकी मानव विकास सूचकांक HDI ,जीडीपी, प्रति व्यक्ति आय, जीवन स्तर, शिक्षा का स्तर, मृत्यु दर आदि के आधार पर दो वर्गों में बांटा गया है विकसित  देश और विकासशील देश। विकसित देशों में प्रति व्यक्ति आय अधिक होने की वजह से जीवन स्तर उच्च होता है।  बेरोजगारी, भुखमरी, कुपोषण आदि समस्याएं प्रायः नहीं होती है। ऐसे देशों में आधारभूत संरचनाओं का जाल बिछा होता है और ये देश औद्योगीकरण के मामले में भी काफी समृद्ध होते हैं। अमेरिका, जापान, फ्रांस, जर्मनी आदि इन्हीं देशों की श्रेणी में आते हैं।
विकासशील देश ठीक इसके उलट कई …

Android Mobile Aur Windows Mobile Phone Me Kya Antar Hai Hindi Me Jankari

सुचना क्रांति के इस दौर ने हर हाथ में मोबाइल फोन पंहुचा दिया है। मोबाइल ने भी काफी विकास कर लिया है और वह स्मार्ट फोन बन चूका है। जब से बाजार में स्मार्ट मोबाइल फोन्स का दौर चला है तब से एक चर्चा और भी चली है एंड्राइड फोन और विंडोज फोन। एंड्राइड फोन बेहतर कि विंडोज फोन। लोग अक्सर कन्फ्यूज्ड हो जाते हैं आखिर दोनों में अंतर क्या है? स्मार्ट फोन को स्मार्ट बनाने के लिए उसे एक ओएस यानि ऑपरेटिंग  सिस्टम की आवश्यकता होती है। यही ओएस उसे एंड्राइड या विंडोज फोन बनाता है। वास्तव में ओएस एक सॉफ्टवेयर प्रोग्राम है जो यूजर और हार्डवेयर के बीच एक इंटरफ़ेस का काम करता है। यही ओएस मोबाइल को यूजर फ्रेंडली बनाता है। ओएस की मदद से ही हम मोबाइल या कंप्यूटर चला पाते हैं। 
एंड्राइड मोबाइल फोन क्या है ? वैसे मोबाइल फोन जिसमे ऑपरेटिंग सिस्टम के रूप में एंड्राइड ऑपरेटिंग सिस्टम यानि एंड्राइड सॉफ्टवेयर का प्रयोग किया जाता है एंड्राइड मोबाइल कहलाते हैं। यह ओपन सोर्स कोड पर आधारित होता है जिसके लिए लाखों ऍप्लिकेशन्स उपलब्ध है।  
विंडोज मोबाइल फोन क्या है ? वैसे स्मार्ट फोन जो सुचारु रूप से काम करने के लिए विंडोज ऑपरेट…