Skip to main content

ओपिनियन पोल और एग्जिट पोल में क्या अंतर है




चुनावों का मौसम आते ही अख़बारों और टीवी पर ओपिनियन पोल और एग्जिट पोल की चर्चा बड़े जोर शोर से होने लगती है।  इस तरह के सर्वेक्षण काफी पहले से ही जनता की राय बताने लगते हैं। चुनाव में किसका पलड़ा भारी रहेगा, किसकी सरकार बन रही है कौन जीत रहा है कौन हार रहा है सारे विश्लेषण सामने आने लगते हैं। क्या आपने कभी गौर किया है ये ओपिनियन पोल और एग्जिट पोल क्या हैं और ओपिनियन पोल और एग्जिट पोल में क्या अंतर है ? आइये आज इस पोस्ट के माध्यम से हम जानकारी हासिल करे इन दोनों में क्या अंतर है

Person Writing On Notebook


क्या होता है ओपिनियन पोल?

जब भी किसी चुनाव की घोषणा होती है लोगों के मन में उत्सुकता होने लगती है कौन जीतेगा, किसकी सरकार बनने जा रही है, हवा किधर की चल रही है। हर कोई जानना चाहता है कौन मुख्यमंत्री बनने जा रहा है या प्रधानमंत्री के रूप में जनता किसको पसंद कर रही है। लोग अपनी इस उत्सुकता को शांत करने के लिए जगह जगह चर्चा करते हैं मसलन चाय की दुकान पर, पान की दुकान पर, ट्रेनों में, बसों में और इसतरह से माहौल को परखने का प्रयास करते हैं। इस तरह से उन्हें एक सामूहिक राय का अनुमान या संकेत मिल जाता है। कई बार इस तरह के प्रयास कई एजेंसियों के द्वारा किये जाते हैं जो इस काम की विशेषज्ञ और प्रोफेशनल होती हैं। ये एजेंसियां मतदाताओं से कई प्रश्न करती हैं और इस सर्वे के आधार पर अपनी रिपोर्ट तैयार करती है जिसमे किस पार्टी को जनता पसंद कर रही या मुख्यमंत्री या प्रधानमंत्री के तौर पर अधिकांश लोग किसको देखना चाहते हैं आदि का अनुमान लगाया जाता है। इस तरह के सर्वे को ओपिनियन पोल कहते हैं। 



ओपिनियन पोल जिसे प्रायः सर्वे कहा जाता है वह वास्तव में पूरी जनसँख्या में से रैंडमली कुछ हिस्से से कुछ सूचनाएं, उनका पक्ष, उनकी पसंद, नापसंद आदि को इकठ्ठा करने की एक प्रक्रिया है। इस प्रक्रिया में लोगों से कुछ प्रश्न पूछे जाते हैं। इन लोगों को सैंपल कहा जाता है। सैंपल जितना बड़ा होता है ओपिनियन पोल की सटीकता उतनी ही ज्यादा मानी जाती है। इन सभी सूचनाओं को इकठ्ठा करके उसका विश्लेषण किया जाता है और इस विश्लेषण के आधार पर ओपिनियन पोल की सही तश्वीर सामने आती है। 


Image result for tv news opinion poll
दुनिया का सबसे पहला ज्ञात ओपिनियन पोल द हैरिसबर्ग पेंन्सिल्वॅनियन के द्वारा कराया गया था। 1824 में इस ओपिनियन पोल में दिखाया गया था कि एंड्रू जैक्सन अमेरिकी प्रेजिडेंट चुनाव में जॉन क्विंसी एडम्स से 335 से 169 मतों से लीड कर रहे हैं। जैकसन की जीत के साथ ही इस तरह के ओपिनियन पोल की लोकप्रियता बढ़ने लगी। किन्तु पहली बार नेशनल लेवल पर द लिटरेरी डाइजेस्ट ने 1916 में वुडरो विल्सन की जीत की भविष्वाणी अपने ओपिनियन पोल के माध्यम से बिलकुल ही सही सही की तब इसकी लोकप्रियता और भी बढ़ गयी। आज के दौर में ओपिनियन पोल की महत्ता काफी बढ़ चुकी है और यह मतदाताओं के साथ साथ उम्मीदवारों और पार्टियों को भी सावधान करने का काम करता है। 

ओपिनियन पोल हमेशा चुनाव के सन्दर्भ में ही हो आवश्यक नहीं है। कई बार देश की नीतियों, सामाजिक रिवाजों आदि के बारे में जनता की राय जानने के लिए भी ओपिनियन पोल कराये जाते हैं। 

क्या होता है एग्जिट पोल?

एग्जिट पोल ओपिनियन पोल की तरह ही एक जन सर्वेक्षण होता है जिसमे मतदाताओं के एक वर्ग से वोट देने के बाद उनसे उनके मतदान के बारे में कुछ तथ्य इकट्ठे किये जाते हैं। इन आकड़ों में उनसे उनके द्वारा दिए गए मत के बारे में पूछा जाता है कि उन्होंने किसके पक्ष में अपना वोट दिया है। इस सर्वेक्षण के आधार पर एजेंसियां उम्मीदवारों और उनकी पार्टियों के बारे में उनके प्रदर्शन और जीत का एक अनुमान पेश करती हैं। हालाँकि चुनाव आयोग के सख्त निर्देश पर इस तरह के एग्जिट पोल को चुनाव ख़त्म होने के बाद ही एजेंसियां इसके परिणाम की घोषणा करती हैं।

एग्जिट पोल में ध्यान यह देने की बात है कि इसके परिणाम की घोषणा चुनाव ख़त्म होने के बाद ही की जा सकती है। कई बार बड़े राज्यों में ये पुरे देश के चुनाव में चुनाव प्रक्रिया काफी लम्बी होती है तो भी जब तक चुनाव की पूरी प्रक्रिया समाप्त न हो जाय अर्थात पुरे जगह के चुनाव न संपन्न हो जाएँ तब तक एग्जिट पोल के अनुमानों को प्रदर्शित नहीं किया जाता है। 





एग्जिट पोल की शुरुआत कहाँ से हुई इसके बारे में कोई सर्वमान्य मत नहीं है। ऐसा माना जाता है कि मार्सेल वैन डैम जो एक डच समाजशास्त्री था उसने डच लेजिस्लेटिव इलेक्शन जो फरवरी 1967 में संपन्न हुए थे उसमे इसका सबसे पहले प्रयोग किया था। कुछ अन्य लोगों का मानना है कि केंटकी गबर्नटोरिअल चुनाव में CBS न्यूज़ के लिए एग्जिट पोल की रुपरेखा तैयार की थी। 

Image result for election news on tv


एग्जिट पोल हमेशा ही सही साबित नहीं होते। 2004 का एग्जिट पोल इसका एक उदाहरण है जब एनडीए को जीतता हुआ दिखाया गया था किन्तु जब रिजल्ट आये तो यूपीए की सरकार का गठन हुआ।


ओपिनियन पोल और एग्जिट पोल में क्या अंतर है 

  • ओपिनियन पोल हमेशा चुनाव की घोषणा के बाद या कभी भी कराये जाते हैं जबकि एग्जिट पोल हमेशा ही वोट देने के बाद ही कराये जाते हैं और इसके परिणाम की घोषणा चुनाव ख़त्म होने के बाद होती है।

  • ओपिनियन पोल मतदाताओं के रुझान का संकेत देता है जबकि एग्जिट पोल उम्मीदवार की या पार्टी की जीत का संकेत देता है।
Image result for exit poll
  • ओपिनियन पोल जिस समय कराये जाते हैं उसके बाद उसमे परिवर्तन आ सकते हैं जबकि एग्जिट पोल चूँकि वोट पड़ने के बाद होते हैं इसलिए इसमें परिवर्तन नहीं होते।
  • ओपिनियन पोल में प्रश्नो की एक सीरीज होती है मतदाताओं से कई प्रश्न किये जाते हैं जबकि एग्जिट पोल में केवल उनसे किसके पक्ष में उन्होंने वोट दिया है पूछा जाता है।
Image result for tv news opinion poll
  • ओपिनियन पोल जनता की राय को प्रभावित कर सकता है। इसके द्वारा जनता को बरगलाया जा सकता है वहीँ एग्जिट पोल में चुकि वोट पड़ चुके होते हैं अतः जनता पर इसका कोई दुष्प्रभाव नहीं हो सकता।


एग्जिट पोल या ओपिनियन पोल छोटे देशों में जहाँ लोग ज्यादा फ्रैंक हैं और खुलकर अपनी राय रखते हैं काफी सटीक साबित होते हैं। भारत जैसे विशाल और विविधता वाले देश में इस तरह के सर्वेक्षण बहुत हद तक सही अनुमान नहीं दे पाते। इसके साथ ही ओपिनियन पोल और एग्जिट पोल में सैंपल कितना लिया गया है इस बात पर भी इसके परिणाम की विश्वसनीयता टिकी हुई होती है।

यह भी पढ़ें  समन और वारंट क्या हैं और इनमे क्या अंतर हैं 

Comments

Popular posts from this blog

आमंत्रण और निमंत्रण में क्या अंतर है

किसी भी भाषा में कई शब्द ऐसे होते हैं जो सुनने या देखने में एक सामान लगते हैं। यहाँ तक कि व्यवहार में भी वे एक सामान लगते हैं। और कई बार इस वजह से उनके प्रयोग में लोग गलतियां कर बैठते हैं। आमंत्रण और निमंत्रण भी इसी तरह के शब्द हैं। अकसर लोगों को आमंत्रण की जगह निमंत्रण और निमंत्रण की जगह आमंत्रण का प्रयोग करते हुए देखा जाता है। हालांकि दोनों के प्रयोग में मंशा किसी को बुलाने की ही होती है अतः लोग अर्थ समझ कर उसी तरह की प्रतिक्रिया करते हैं अर्थात उनके यहाँ चले जाते हैं और कोई बहुत ज्यादा परेशानी नहीं होती है। किन्तु यदि शब्दों की गहराइयों में जाया जाय तो दोनों शब्दों में फर्क है और दोनों के प्रयोग करने के अपने नियम और सन्दर्भ हैं। 

आमंत्रण और निमंत्रण में क्या अंतर है

आमंत्रण और निमंत्रण दोनों शब्दों में मन्त्र धातु का प्रयोग किया गया है जिसका अर्थ है मंत्रणा करना अर्थात बात करना या बुलाना होता है परन्तु "आ" और "नि" प्रत्ययों की वजह से उनके अर्थों में थोड़ा फर्क आ जाता है। 



इन दोनों में अंतर को शब्दकल्पद्रुम शब्दकोष से अच्छी तरह समझा जा सकता है 
"अत्र यस्याकारणे प…

विकसित और विकासशील देशों में क्या अंतर है ?

समाचारपत्रों, पत्रिकाओं और रेडियो टीवी न्यूज़ में जब भी किसी देश की चर्चा होती है तब एक शब्द अकसर प्रयोग किया जाता है विकसित देश या विकासशील देश। भारत के सन्दर्भ में अकसर विकासशील शब्द का प्रयोग किया जाता है। विकसित और विकासशील शब्दों से कुछ बातें तो समझ में आ ही जाती है कि वैसे देश जो काफी विकसित हैं उनको विकसित देश तथा वे देश जो विकास की प्रक्रिया में हैं उनको विकासशील देश कहा जाता है किन्तु आईये देखते हैं दोनों में बुनियादी अंतर क्या है।
संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा विश्व के देशों को उनकी मानव विकास सूचकांक HDI ,जीडीपी, प्रति व्यक्ति आय, जीवन स्तर, शिक्षा का स्तर, मृत्यु दर आदि के आधार पर दो वर्गों में बांटा गया है विकसित  देश और विकासशील देश। विकसित देशों में प्रति व्यक्ति आय अधिक होने की वजह से जीवन स्तर उच्च होता है।  बेरोजगारी, भुखमरी, कुपोषण आदि समस्याएं प्रायः नहीं होती है। ऐसे देशों में आधारभूत संरचनाओं का जाल बिछा होता है और ये देश औद्योगीकरण के मामले में भी काफी समृद्ध होते हैं। अमेरिका, जापान, फ्रांस, जर्मनी आदि इन्हीं देशों की श्रेणी में आते हैं।
विकासशील देश ठीक इसके उलट कई …

Android Mobile Aur Windows Mobile Phone Me Kya Antar Hai Hindi Me Jankari

सुचना क्रांति के इस दौर ने हर हाथ में मोबाइल फोन पंहुचा दिया है। मोबाइल ने भी काफी विकास कर लिया है और वह स्मार्ट फोन बन चूका है। जब से बाजार में स्मार्ट मोबाइल फोन्स का दौर चला है तब से एक चर्चा और भी चली है एंड्राइड फोन और विंडोज फोन। एंड्राइड फोन बेहतर कि विंडोज फोन। लोग अक्सर कन्फ्यूज्ड हो जाते हैं आखिर दोनों में अंतर क्या है? स्मार्ट फोन को स्मार्ट बनाने के लिए उसे एक ओएस यानि ऑपरेटिंग  सिस्टम की आवश्यकता होती है। यही ओएस उसे एंड्राइड या विंडोज फोन बनाता है। वास्तव में ओएस एक सॉफ्टवेयर प्रोग्राम है जो यूजर और हार्डवेयर के बीच एक इंटरफ़ेस का काम करता है। यही ओएस मोबाइल को यूजर फ्रेंडली बनाता है। ओएस की मदद से ही हम मोबाइल या कंप्यूटर चला पाते हैं। 
एंड्राइड मोबाइल फोन क्या है ? वैसे मोबाइल फोन जिसमे ऑपरेटिंग सिस्टम के रूप में एंड्राइड ऑपरेटिंग सिस्टम यानि एंड्राइड सॉफ्टवेयर का प्रयोग किया जाता है एंड्राइड मोबाइल कहलाते हैं। यह ओपन सोर्स कोड पर आधारित होता है जिसके लिए लाखों ऍप्लिकेशन्स उपलब्ध है।  
विंडोज मोबाइल फोन क्या है ? वैसे स्मार्ट फोन जो सुचारु रूप से काम करने के लिए विंडोज ऑपरेट…