Visit blogadda.com to discover Indian blogs ANM और GNM क्या है: ANM और GNM में क्या अंतर है

ANM और GNM क्या है: ANM और GNM में क्या अंतर है



Difference Between ANM And GNM


नर्सिंग में अपना करियर बनाने वाले लोग अकसर जानना चाहते हैं कि नर्सिंग के लिए कौन सा कोर्स करें, नर्स की पढाई कहाँ से करें, नर्सिंग के लिए कौन से प्रसिद्ध और बढियाँ कॉलेज हैं आदि आदि। कई लोगों की जिज्ञासाएं होती हैं ANM क्या होता है, GNM क्या है, ANM और GNM में क्या अंतर है? ANM नर्सिंग कोर्स के लिए क्या योग्यताएं होनी चाहिए, इसी तरह GNM कोर्स के लिए कितनी योग्यता होनी चाहिए? दोनों कोर्स यानि ANM और GNM के लिए कितनी फीस लगती है? कोर्स की अवधि क्या होती है? आज के इस पोस्ट के माध्यम से हम इन्ही प्रश्नो का उत्तर जानेंगे कि ANM क्या है, GNM कोर्स क्या है और ANM और GNM दोनों में क्या अंतर है ? तो आइये विस्तार से जानकारी लेते हैं


  • ANM कोर्स क्या है What is ANM course in Hindi

  • ANM का फुलफॉर्म क्या होता है 


  • GNM कोर्स क्या है What is GNM Nursing in Hindi

  • GNM का फुलफॉर्म क्या होता है 

  • ANM के लिए न्यूनत्तम योग्यताएं Eligibility for ANM

  • GNM के लिए न्यूनत्तम उम्र और शैक्षणिक योग्यताएं Eligibility for GNM

  • ANM और GNM में क्या अंतर है Difference between ANM and GNM

ANM और GNM क्या है: ANM और GNM में क्या अंतर है
ANM और GNM में क्या अंतर है



ANM कोर्स क्या है What is ANM course in Hindi


ANM सामुदायिक स्वास्थ्य सेवा की प्रथम और एक महत्वपूर्ण कार्यकर्ता होती हैं जो समुदाय और स्वास्थ्यकेंद्र के बीच संपर्क का कार्य करती हैं। वस्तुतः ANM स्वास्थ्य विभाग की वास्तविक जमीनी कार्यकर्ता होती हैं। इनकी भूमिका विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में सुरक्षित और प्रभावशाली स्वास्थ्य सेवाओं को उपलब्ध कराने के साथ साथ सरकार के स्वास्थ्य कार्यक्रमों के लक्ष्यों को भी प्राप्त करने में मदद करने में होती है।

ANM का फुलफॉर्म क्या होता है 



वास्तव में ANM एक डिप्लोमा कोर्स होता है जिसको करने के बाद कोई महिला इस पद पर नियुक्त होने के योग्य होती है। ANM का फुलफॉर्म Auxiliary Nurse Midwifery होता है जिसे हिंदी में सहायक मिडवाइफ नर्स कहा जाता है। ANM के कोर्स में जनस्वास्थ्य के साथ साथ छात्राओं को चिकित्सीय उपकरणों की देखभाल तथा मेंटेनेंस, ऑपरेशन थिएटर को तैयार करना, मरीजों को समय पर दवा देना तथा उनका रिकॉर्ड मेंटेन करना आदि की ट्रेनिंग दी जाती है।

ANM और GNM क्या है: ANM और GNM में क्या अंतर है
ANM और GNM में क्या अंतर है



ANM कोर्स के लिए न्यूनत्तम उम्र तथा शैक्षणिक योग्यताएं 


ANM पद पर नियुक्त होने के लिए इस डिप्लोमा कोर्स को उत्तीर्ण होना होता है। इस कोर्स को केवल महिलाएं ही कर सकती हैं। इस कोर्स की अवधि भारत के अलग अलग इंस्टिट्यूट में अलग अलग है। प्रायः यह एक से तीन वर्षों तक का होता है। इंडियन नर्सिंग कौंसिल के अनुसार इस ट्रेनिंग की अवधि दो साल है। कौंसिल के अनुसार इस कोर्स को करने के लिए अभ्यर्थी के पास निम्न योग्यताएं होनी चाहिए :

  • अभ्यर्थी को किसी भी मान्यता प्राप्त बोर्ड से किसी भी स्ट्रीम में 12 वीं पास होना चाहिए।

  • अभ्यर्थी अपनी 12 वीं इंग्लिश वैकल्पिक विषय के साथ उत्तीर्ण की हो।

  • अभ्यर्थी की उम्र 17 से 35 वर्ष के बीच होना चाहिए।

ANM में एडमिशन प्रक्रिया


ANM कोर्स में एडमिशन की दो प्रक्रियाएं हैं एक एंट्रेंस द्वारा तथा दूसरी मेरिट के आधार पर। भारत में कई इंस्टिट्यूट मेरिट के आधार पर एडमिशन देते हैं। ये इंस्टिट्यूट एक कटऑफ लिस्ट जारी करते हैं जिसमे सिलेक्टेड कैंडिडेट्स को एडमिशन के लिए रजिस्ट्रेशन कराना होता है। कई अन्य इंस्टिट्यूट दाखिले के लिए प्रवेश परीक्षा कराते हैं। इस परीक्षा के बाद छात्राओं का इंटरव्यू होता है। इन दोनों के मार्क्स के आधार पर फाइनल एडमिशन किया जाता है।

ANM कोर्स कहाँ से किया जा सकता है 


भारत के कुछ प्रमुख इंस्टिट्यूट जहाँ ANM कोर्स किया जा सकता है 

  • अम्बिका कॉलेज ऑफ़ नर्सिंग,मोहाली 
 
  • आदर्श कॉलेज ऑफ़ नर्सिंग, पाटियाला  

  • NIMS यूनिवर्सिटी, जयपुर 
 
  • तिलक महाराष्ट्र विद्यापीठ, पुणे 
 
  • अमृतसर स्कूल ऑफ़ नर्सिंग, पंजाब 

  • आरोग्यम मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल, हरिद्वार 

  • स्वामी विवेकानंद सुभारती विश्वविद्यालय, मेरठ

ANM कोर्स की वार्षिक फीस क्या है 


अलग अलग इंस्टिट्यूट में इस कोर्स के लिए कोर्स की अवधि तथा फीस अलग अलग है। सामान्यतः यह एक से तीन वर्षों का कोर्स है। इसकी फीस 24000 रुपये से लेकर 150000 रुपये वार्षिक तक हो सकती है।



GNM क्या होता है




GNM मेडिकल क्षेत्र का एक महत्वपूर्ण कोर्स है जो नर्सिंग से सम्बन्ध रखता है। इस कोर्स को करने के उपरांत ही कोई व्यक्ति नर्स के पद पर नियुक्त हो सकता है। बीमारों की सेवा और उनकी चिकित्सा में रूचि और जज्बा रखने वाले लोगों के लिए यह कोर्स एकदम उपयुक्त है। इसके माध्यम से वे न केवल अपना करियर बना सकते हैं बल्कि इसके माध्यम से वे अपनी सेवा भावना को भी पूरा कर सकते हैं।

GNM कोर्स की अवधि 


GNM एक डिप्लोमा कोर्स है। इसकी अवधि साढ़े तीन साल है। इस अवधि में तीन साल पढाई और छह महीने का इंटर्नशिप शामिल है। GNM कोर्स को लड़कियों के साथ साथ लड़के भी कर सकते हैं। इस कोर्स को पूरा करने के उपरांत छात्रों को रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट दिया जाता है। इस सर्टिफिकेट के आधार पर आपको सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में नर्स के पद पर नियुक्ति मिल सकती है।


GNM का फुलफॉर्म क्या होता है 


GNM एक नर्सिंग कोर्स है। GNM का फुलफॉर्म होता है "General Nursing and Midwifery" नर्सिंग फील्ड में जाने वाले लोगों के लिए यह एक अच्छा और अनिवार्य कोर्स है।




GNM कोर्स के लिए कौन कौन सी योग्यताएं होनी चाहिए



इंडियन नर्सिंग कौंसिल के वेबसाइट के अनुसार GNM कोर्स में आवेदन के लिए निम्न आहर्ताएँ अपेक्षित हैं


  • GNM के कोर्स लिए अभ्यर्थी को इंग्लिश के साथ न्यूनत्तम 12 वीं पास होना चाहिए।

  • वैसे तो 12 वीं किसी भी स्ट्रीम से हो सकता है किन्तु साइंस साइड वालों को वरीयता दी जाती है।

  • अभ्यर्थी को क्वालीफाइंग परीक्षा में कम से कम 40 प्रतिशत अंक होने चाहिए (अलग अलग इंस्टिट्यूट में न्यूनत्तम अंक प्रतिशत 40, 50 और 60 तक है।

  • अभ्यर्थी की उम्र 17 वर्ष से 35 वर्ष के बीच होनी चाहिए।

  • वैसे अभ्यर्थी जो ANM हैं, उनके लिए उम्र सीमा की कोई बाध्यता नहीं है। किन्तु उन्हें भारतीय नर्सिंग कौंसिल द्वारा मान्यता प्राप्त किसी इंस्टिट्यूट से न्यूनत्तम 40 प्रतिशत अंकों के साथ उत्तीर्ण होने के साथ साथ 12 वीं की परीक्षा भी अंग्रेजी विषय के साथ उत्तीर्ण होना चाहिए।

  • छात्र को मैडिकली फिट होना चाहिए।
ANM और GNM क्या है: ANM और GNM में क्या अंतर है
ANM और GNM में क्या अंतर है





GNM कोर्स कराने वाले कुछ महत्वपूर्ण संसथान


भारत के कुछ महत्वपूर्ण संस्थान जहाँ से GNM का कोर्स किया जा सकता है

  • NIMS यूनिवर्सिटी जयपुर

  • शारदा यूनिवर्सिटी नोएडा

  • क्रिस्टियन मेडिकल कॉलेज वेल्लोर

  • इंस्टिट्यूट ऑफ़ पोस्टग्रेजुएट मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च कोलकाता

  • गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज एंड हॉस्पिटल, चंडीगढ़

  • SRM इंस्टिट्यूट ऑफ़ साइंस एंड टेक्नोलॉजी, चेन्नई

  • KIIT, भुबनेश्वर


GNM में एडमिशन की प्रक्रिया


GNM में एडमिशन के लिए कई इंस्टिट्यूट 12 वीं में प्राप्त अंकों के आधार पर मेरिट लिस्ट बनाते हैं और फिर एक कटऑफ लिस्ट रिलीज़ करते हैं। इसके लिए योग्य अभ्यर्थियों को उन संस्थानों में एडमिशन के लिए अपने सभी शैक्षणिक प्रमाणपत्रों साथ आवेदन करना होता है। कटऑफ लिस्ट में आये अभ्यर्थियों का एडमिशन उस संसथान में सीधे हो जाता है। GNM कोर्स में एडमिशन के लिए कई संसथान अपने अपने एंट्रेंस परीक्षा करवाते हैं। एंट्रेंस परीक्षा में क्वालीफाई करने वाले छात्रों का एडमिशन उस संसथान में होता है।

GNM कोर्स की फीस क्या है


GNM कोर्स की फीस अलग अलग संस्थानों में अलग अलग है। इस कोर्स को करने के लिए 23000 से लेकर 150000 रुपये प्रतिवर्ष तक की फीस अलग अलग इंस्टिट्यूट के द्वारा लिया जा सकता है।


ANM और GNM में क्या अंतर है


अकसर लोग ANM और GNM दोनों को एक ही समझ बैठते हैं और दोनों का मतलब नर्स से निकालते हैं। वास्तव में ANM और GNM दोनों अलग अलग कोर्स के नाम हैं

  • ANM का फुलफॉर्म Auxiliary Nurse And Midwifery होता है जबकि GNM का फुलफॉर्म General Nursing And Midwifery होता है।

  • ANM कोर्स के लिए केवल लड़कियां ही आवेदन कर सकती हैं जबकि GNM का कोर्स लड़कियों के साथ साथ लड़के भी कर सकते हैं।

  • ANM का कोर्स न्यूनत्तम एक से लेकर तीन वर्षों तक का होता है वहीँ GNM का कोर्स साढ़े तीन साल का होता है।

  • ANM कोर्स में उपचार के दौरान प्रयोग होने वाले उपकरणों के रख रखाव की जानकारी के साथ साथ रोगी के देखभाल के विषय में कुछ जानकारी दी जाती है। GNM कोर्स में रोगी की देखभाल के विषय में विस्तृत जानकारी दी जाती है।

  • ANM कोर्स के लिए न्यूनत्तम योग्यता 12 वीं पास होनी चाहिए जबकि GNM कोर्स के लिए 12 वीं अंग्रेजी विषय के साथ जिसमे न्यूनत्तम 40 प्रतिशत अंक हो के साथ उत्तीर्ण होना चाहिए।


ANM और GNM क्या है: ANM और GNM में क्या अंतर है
ANM और GNM में क्या अंतर है




उपसंहार

ANM और GNM दोनों ही मरीजों की देखभाल से जुड़े कोर्स हैं जिसमे ANM के कोर्स में जनस्वास्थ्य के साथ साथ छात्राओं को चिकित्सीय उपकरणों की देखभाल तथा मेंटेनेंस, ऑपरेशन थिएटर को तैयार करना, मरीजों को समय पर दवा देना तथा उनका रिकॉर्ड मेंटेन करना आदि की ट्रेनिंग दी जाती है वहीँ GNM कोर्स में छात्रों को रोगी के देखभाल से सम्बंधित विस्तृत ट्रेनिंग दी जाती है। ओहदे, सैलरी आदि के मामले में GNM का कोर्स ANM से बेहतर होता है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ