Visit blogadda.com to discover Indian blogs CTET और TET क्या है: CTET और TET में क्या अंतर है

CTET और TET क्या है: CTET और TET में क्या अंतर है


Differences between CTET & TETs



शिक्षक का पद अपनी गरिमा, प्रतिष्ठा और अच्छी सैलरी आदि की वजहों से आज के युवाओं को अपनी ओर खूब आकर्षित कर रहा है। यही वजह है हर साल लाखों छात्र विभिन्न शिक्षक प्रशिक्षण कोर्सों जैसे बीटीसी, बीएड आदि में एडमिशन ले रहे हैं और बड़ी संख्या में छात्र बीटीसी और बीएड की डीग्री हासिल कर सामने आ रहे हैं। जैसा कि हम जानते हैं इन कोर्सों को करने के उपरांत छात्रों को शिक्षक बनने के लिए शिक्षक पात्रता परीक्षा को उत्तीर्ण होना होता है, छात्रों के मन में TET को लेकर कई सवाल उठते हैं जैसे CTET क्या है, TET क्या है, CTET और TET में क्या अंतर है आदि। आइये CTET और TET के बारे में विस्तार से जाने।

CTET और TET क्या है: CTET और TET में क्या अंतर है


CTET क्या है

What Is CTET


स्कूलों में छह से 14 वर्ष के बच्चों को मुफ्त एवं अनिवार्य शिक्षा का अधिकार कानून के तहत शिक्षकों की कमी को पूरा करने और गुणवत्ता सुनिश्चित करने के उद्देश्य से स्कूलों में शिक्षकों की पात्रता परीक्षा का आयोजन की जा रही है। इसके तहत शिक्षकों की दक्षता, बुद्धिमता और योग्यता के साथ प्राथमिक एच् उच्च प्राथमिक स्तर पर चुनौतियों से निपटने में उनकी क्षमता का आकलन किया जाएगा।

केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा अर्थात CTET केंद्र सरकार द्वारा संचालित किसी भी स्कूल में शिक्षकों की नियुक्ति के लिए उम्मीदवारों की पात्रता निर्धारित करने के लिए आयोजित एक पात्रता परीक्षा है। यह एक राष्ट्रीय स्तर पर आयोजित होने वाली शिक्षक पात्रता परीक्षा है जिसका आयोजन केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) के द्वारा किया जाता है। यह परीक्षा राष्ट्रीय शिक्षक शिक्षा परिषद् (NCTE) द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के आधार पर केंद्रीय स्तर पर आयोजित की जाती है।


सीटीईटी परीक्षा के दो पत्र होते हैं ,जिसमें पहला पत्र उन लोगों के लिए होगा जो पहली कक्षा से पाचवी कक्षा को पढ़ाना चाहते हैं जबकि दूसरा पत्र उन लोगों के लिए होगा जो छठी कक्षा से आठवीं कक्षा को पढ़ाना चाहते हैं। जो लोग दोनों स्तरों पर कक्षाओं में पढ़ाना चाहते हैं। उन्हें दोनों पत्रों की परीक्षा देनी होगी।

CTET और TET क्या है: CTET और TET में क्या अंतर है



CTET का फुलफॉर्म क्या है

What is the full form of CTET


CTET एक केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा है जिसका फुलफॉर्म Central Teacher Eligibility Test होता है।


CTET की स्थापना


CTET की स्थापना या शुरुवात आरटीई अधिनियम की धारा 23 की उप धारा (1) के प्रावधानों के अनुसार राष्ट्रीय शिक्षक शिक्षा परिषद् को शिक्षक पात्रता के लिए न्यूनत्तम योग्यता निर्धारित करने हेतू 23 अगस्त 2010 और 29 जुलाई 2011 को प्राप्त अधिसूचनाओं के आधार पर किया गया। कक्षा एक से आठ तक बच्चों को निःशुल्क और अनिवार्य शिक्षा के अधिकार अधिनियम (आरटीई अधिनियम) की धारा 2 के खंड (N) में संदर्भित किसी भी स्कूल में शिक्षक के रूप में नियुक्ति के लिए राष्ट्रीय शिक्षक शिक्षा परिषद् (NCTE) के दिशा निर्देशों के अनुसार TET पास करना अनिवार्य आवश्यकता घोषित की गयी।

राष्ट्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने सीबीएसई, दिल्ली को केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (सीटीईटी) आयोजित करने की जिम्मेदारी सौंपी, जो साल में दो बार सीटीईटी आयोजित करता है। CTET 20 भारतीय भाषाओं में आयोजित की जाती है। लगभग 14 लाख उम्मीदवार परीक्षा में बैठने के लिए आवेदन करते हैं।

CTET के बाद अवसर

Career Prospects of CTET

CTET करने के बाद अभ्यर्थियों के पास केंद्र सरकार द्वारा संचालित स्कूलों जैसे केंद्रीय स्कूल, नवोदय विद्यालय आदि में आवेदन करने की पात्रता हो जाती है। इन विद्यालयों में भर्ती आने पर CTET किये हुए अभ्यर्थी उनमे आवेदन कर सकते हैं और नियुक्ति पा सकते हैं। कई केंद्र शासित प्रदेशों में CTET अभ्यर्थियों की ही मांग रहती है। CTET चयनित अभ्यर्थी राज्य स्तरीय स्कूलों में भी शिक्षक के पद के लिए आवेदन कर सकता है। इनके अतिरिक्त प्राइवेट स्कूलों में भी CTET अभ्यर्थी जॉब पा सकता है।

CTET और TET क्या है: CTET और TET में क्या अंतर है







CTET के लिए आवश्यक न्यूनतम योग्यता

Eligibility for CTET

CTET की परीक्षा में सम्मिलित होने के लिए न्यूनत्तम योग्यता का मानदंड राष्ट्रीय शिक्षक शिक्षा परिषद् (NCTE) द्वारा निर्धारित की गयी है। वैसे तो इसमें पेपर I और पेपर II के लिए अलग अलग योग्यता अपेक्षित होती है तो भी सीनियर सेकेंडरी या स्नातक में 50 प्रतिशत के साथ सम्बंधित शिक्षक प्रशिक्षण प्रोग्राम की योग्यता होनी चाहिए।

  • उम्मीदवार की उम्र कम से कम 17 वर्ष होनी चाहिए।

  • उम्मीदवार भारत का नागरिक होना चाहिए।

पेपर I में शामिल होने के लिए योग्यता :

  • उम्मीदवारों को कम से कम 50% अंकों के साथ अपने सीनियर सेकेंडरी या इसके समकक्ष उत्तीर्ण होना चाहिए। उन्हें एलेमेंटरी एजुकेशन में अपने 2 वर्षीय डिप्लोमा के अंतिम वर्ष में भी उत्तीर्ण होना चाहिए या कम से कम सम्मिलित होना चाहिए।

  • एनसीटीई रेगुलेशनस, 2002 (मान्यता मानदंड और प्रक्रिया) के अनुसार, उनके सीनियर सेकेंडरी या समकक्ष परीक्षा में कम से कम 45% अंक होने चाहिए। उन्हें प्रारंभिक शिक्षा में अपने 2 वर्षीय डिप्लोमा पाठ्यक्रम के अंतिम वर्ष में भी उत्तीर्ण होना चाहिए या कम से कम सम्मिलित होना चाहिए।

  • वे बैचलर ऑफ एलीमेंट्री एजुकेशन के 4 वर्षीय डिग्री कोर्स के अंतिम वर्ष में भी हो सकते हैं। हालांकि, उन्हें कम से कम 50% अंकों के साथ अपने सीनियर सेकेंडरी या समकक्ष उत्तीर्ण होना चाहिए।

  • शिक्षा (विशेष शिक्षा) में 2 वर्षीय डिप्लोमा पाठ्यक्रम के अंतिम वर्ष में उत्तीर्ण या होने के साथ सीनियर सेकेंडरी या समकक्ष परीक्षा में 50% अंक।

  • 50 प्रतिशत अंकों के साथ स्नातक और साथ में बीएड होना चाहिए।

पेपर II की परीक्षा में शामिल होने के लिए न्यूनत्तम योग्यता

  • स्नातक उम्मीदवार जो एलेमेंटरी एजुकेशन में अपने 2 वर्षीय डिप्लोमा के अंतिम वर्ष में उत्तीर्ण हो या सम्मिलित होने जा रहा है।

  • स्नातक में कम से कम 50% और 1 वर्षीय बीएड में उत्तीर्ण या शामिल होना।

  • NCTE रेगुलेशंस के अनुसार स्नातक 45 प्रतिशत अंकों के साथ एक वर्षीय बीएड उत्तीर्ण या अपियरिंग उम्मीदवार।

  • उम्मीदवार अपने सीनियर सेकेंडरी या समकक्ष परीक्षा में 50% अंक प्राप्त किये हो तथा उन्हें एलेमेंटरी एजुकेशन में 4 वर्षीय स्नातक के अंतिम वर्ष में भी उत्तीर्ण होना चाहिए या सम्मिलित होना चाहिए।

  • वे 4 वर्षीय B.A/ B.Sc., Ed, BA Ed, BSC Ed या एजुकेशन के अंतिम वर्ष में उत्तीर्ण या सम्मिलित हो सकते हैं। उन्हें अपने सीनियर सेकेंडरी या समकक्ष 50% के साथ उत्तीर्ण होना चाहिए।

  • उमीदवार एक वर्षीय बीएड (स्पेशल एजुकेशन) उत्तीर्ण या अपीयरिंग होना चाहिए। उन्हें न्यूनत्तम 50 प्रतिशत अंकों के साथ स्नातक होना चाहिए।
CTET और TET क्या है: CTET और TET में क्या अंतर है




CTET परीक्षा का पैटर्न


Exam Pattern for CTET

CTET की परीक्षा में दो पेपर होते हैं। कक्षा I से कक्षा V तक के शिक्षकों के लिए पेपर I तथा कक्षा VI से VIII के शिक्षकों के लिए पेपर II होता है। CTET क्वालीफाई करने के लिए अभ्यर्थियों को कम से कम 60 प्रतिशत अंकों के साथ उत्तीर्ण करना अनिवार्य है। CTET के सर्टिफिकेट की मान्यता आजीवन होती है और उत्तीर्ण अभ्यर्थी केंद्र सरकार द्वारा संचालित स्कूलों जैसे केंद्रीय विद्यालय, नवोदय विद्यालय आदि भर्तियां निकलने पर आवेदन कर सकता है।

CTET के प्रत्येक पेपर में 150 बहुविकल्पीय प्रश्न पूछे जाते हैं जिसके लिए परीक्षार्थियों को ढाई ढाई घंटे का समय दिया जाता है। प्रत्येक सही उत्तर के लिए एक अंक निर्धारित है। गलत उत्तर के लिए कोई नेगेटिव मार्किंग नहीं होती है।

CTET के लिए परीक्षा शुल्क


Examination Fees for CTET

CTET की परीक्षा के लिए एक निश्चित शुल्क निर्धारित है। सामान्य और OBC के छात्रों को पेपर I के लिए 1000 रूपये तथा SC/ST छात्रों के लिए 500 रूपये निर्धारित है। पेपर II में भी जेनेरल और OBC के लिए 1000 तथा आरक्षित वर्ग के लिए 500 रूपये की राशि देय है। दोनों पेपर में सम्मिलित होने वाले सामान्य तथा अन्य पिछड़ा वर्ग के छात्रों को 1200 रूपये और SC/ST वर्ग के लिए 600 रुपये तय है।

TET क्या है

What Is TET


शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) किसी भी स्कूल में शिक्षकों के रूप में उम्मीदवारों की पात्रता निर्धारित करने के लिए आयोजित एक पात्रता परीक्षा है। टीईटी परीक्षाएं राष्ट्रीय शिक्षक शिक्षा परिषद (एनसीटीई) द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के आधार पर केंद्रीय और राज्य स्तर पर आयोजित की जाती हैं। राष्ट्रीय स्तर पर, केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा (CTET) आयोजित करता है और राज्य स्तर पर, विभिन्न राज्य हर साल TET आयोजित करते हैं जैसे UPTET, PSTET, HTET, MAHA TET, OTET, HP टीईटी, केटीईटी, और अन्य।

TET का फुलफॉर्म क्या होता है

What is the full form of TET


TET एक राज्य स्तरीय शिक्षक पात्रता परीक्षा है जिसका फुलफॉर्म Teacher Eligibility Test होता है।


CTET और TET क्या है: CTET और TET में क्या अंतर है



TET के लिए न्यूनत्तम योग्यताएं

Eligibility For TET

राष्ट्रीय स्तर पर होने वाली CTET को छोड़ कर अन्य सभी TET परीक्षाएँ राज्य स्तर पर करायी जाती हैं। यही वजह इन सभी TET परीक्षाओं के लिए एलिजिबिलिटी में अलग अलग राज्य में थोड़ा बहुत अंतर है। एक राज्यस्तरीय TET की परीक्षा में शामिल होने के लिए न्यूनत्तम आहर्ताएँ निम्नलिखित हैं

UPTET परीक्षा के लिए न्यूनत्तम आहर्ताएँ निम्न हैं




Primary Teachers (Classes I-V)

  • न्यूनत्तम 50 प्रतिशत अंकों के साथ किसी मान्यता प्राप्त विश्वविद्यालय से स्नातक और दो वर्षीय डिप्लोमा इन एजुकेशन।

  • बैचलर डिग्री के साथ दो वर्षीय बीटीसी, CT(Nursery)/नर्सरी टीचर ट्रेनिंग।

  • बैचलर डिग्री और विशिष्ट BTC

  • बैचलर्स डिग्री के साथ BCT उर्दू स्पेशल ट्रेनिंग

  • बैचलर्स डिग्री और टीचिंग में डिप्लोमा(अलीगढ यूनिवर्सिटी)
Upper Primary Teachers (Classes VI-VIII)

  • बैचलर्स डिग्री और BTC NCTE द्वारा मान्यता प्राप्त किसी भी विद्यालय से अथवा
  • स्नातक की डिग्री न्यूनतम 50 प्रतिशत अंकों के साथ और साथ में बीएड अथवा
  • इंटरमीडिएट न्यूनतम 50 प्रतिशत अंकों के साथ और साथ में चार वर्षीय BA/बीएससी या BA शिक्षा शास्त्र के साथ अथवा
  • 50 प्रतिशत अंकों के साथ चार वर्षीय B.El.Ed अथवा
  • बैचलर्स डिग्री और न्यूनतम 45 प्रतिशत अंकों के साथ बीएड।


CTET और TET क्या है: CTET और TET में क्या अंतर है




TET परीक्षा का पैटर्न


Exam Pattern For TET

स्टेट लेवल TET परीक्षा में दो पेपर होते हैं। अलग अलग राज्यों में TET के पेपर में थोड़ी बहुत भिन्नता आ सकती है। यहाँ हम UPTET को आधार मान कर इस परीक्षा की जानकारी साझा करेंगे। UPTET की परीक्षा भी दो पेपर की होती है। ऐसे अभ्यर्थी जो कक्षा 1 से 5 तक के बच्चों को पढ़ाना चाहते हैं उन्हें पेपर I में शामिल होना होगा जबकि कक्षा 6 से 8 तक के बच्चों को पढ़ाने के लिए पेपर II में सम्मिलित होना होगा।

दोनों पेपर की परीक्षा में बहुविकल्पी प्रश्न पूछे जाते हैं। प्रत्येक पेपर में 150 प्रश्न होते हैं और प्रत्येक प्रश्न के लिए एक अंक निर्धारित होता है। गलत उत्तर के लिए कोई अंक काटे नहीं जायेंगे। प्रत्येक पेपर के लिए 150 मिनट अर्थात ढाई घंटे निर्धारित होते हैं।

CTET और TET क्या है: CTET और TET में क्या अंतर है



TET के लिए कितना एग्जामिनेशन फीस लगता है

Examination Fees For TET

TET की परीक्षा में सम्मिलित होने के लिए अभ्यर्थियों को निर्धारित शुल्क जमा करना होता है। UPTET की परीक्षा में एक पेपर में शामिल होने के लिए सामान्य तथा पिछड़े वर्ग के अभ्यर्थियों को 600 रूपये जबकि SC/ST को 400 रूपये देने होते हैं जबकि दोनों पेपर में शामिल होने वाले सामान्य और OBC अभ्यर्थियों को 1200 रूपये और SC/ST अभ्यर्थियों को 800 रूपये जमा करने होते हैं।




CTET और TET में क्या अंतर है

Differences between CTET & TETs

CTET और TET के बीच मुख्य अंतर निम्नलिखित हैं :

  • CTET एक केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा है जो पुरे देश में करायी जाती है जबकि TET एक राज्य स्तरीय शिक्षक पात्रता परीक्षा है जिसे विभिन्न राज्य अपने अपने राज्य के लिए आयोजित करवाते हैं।

  • CTET परीक्षा का आयोजन CBSE के द्वारा केंद्र सरकार करवाती है जबकि TET की परीक्षा का आयोजन भिन्न भिन्न राज्यों के लिए वहां के एजुकेशन बोर्ड करवाते हैं।

  • CTET का आयोजन प्रत्येक वर्ष दो बार किया जाता है जबकि TET का आयोजन सम्बंधित राज्य सरकारों के दिशा निर्देश पर एक या दो बार किया जाता है।

  • CTET के लिए आयु की उपरी सीमा की कोई बाध्यता नहीं है किन्तु TET के लिए अलग अलग राज्यों में अलग अलग क्राइटेरिया निर्धारित की गयी है।
CTET और TET क्या है: CTET और TET में क्या अंतर है


  • CTET में शामिल होने के लिए अभ्यर्थी को निर्धारित भाषा समूह में किसी एक का चुनाव करना होता है वहीँ TET की परीक्षा के लिए अभ्यर्थी को उस राज्य की भाषा का ज्ञान होना चाहिए।

  • CTET क्वालिफाइड अभ्यर्थी केंद्र सरकार द्वारा संचालित स्कूलों जैसे केंद्रीय विद्यालय, नवोदय विद्यालय आदि में जॉब के लिए अप्लाई कर सकते हैं। इसके साथ ही वे राज्य सरकार द्वारा संचालित स्कूलों में भी अध्यापन कर सकते हैं। TET उत्तीर्ण अभ्यर्थी केवल उस राज्य के स्कूलों में शिक्षक के तौर पर नियुक्त हो सकते हैं जिस राज्य के शिक्षक पात्रता परीक्षा को क्वालीफाई किये हैं।


Conclusion:

शिक्षा के क्षेत्र में एक शिक्षक के रूप में कैरियर बनाने वाले छात्रों को शिक्षक पात्रता परीक्षा क्वालीफाई करना अनिवार्य होता होता है। इसके लिए केंद्रीय सरकार द्वारा संचालित विद्यालयों में नियुक्ति पाने के लिए छात्रों को केंद्रीय शिक्षक पात्रता परीक्षा यानि CTET उत्तीर्ण होना होगा। इसी तरह राज्य सरकार द्वारा संचालित विद्यालयों में पढ़ाने के लिए छात्रों को उस राज्य द्वारा आयोजित TET की परीक्षा पास करनी होती है।




एक टिप्पणी भेजें

2 टिप्पणियाँ