Visit blogadda.com to discover Indian blogs हॉलीवुड और बॉलीवुड में क्या अंतर है

हॉलीवुड और बॉलीवुड में क्या अंतर है

हॉलीवुड और बॉलीवुड में क्या अंतर है


ग्लोबलाइजेशन और सूचना क्रान्ति के इस दौर में फ़िल्में किसी भौगोलिक सीमा से बंधकर नहीं रह सकती। अच्छी फ़िल्में आज पूरी दुनिया में देखी जाती हैं। यही कारण है कि अमेरिका में बनी फिल्में इंडिया और कई अन्य देशों में देखी जाती हैं। इसी तरह भारत में बनी फिल्मे पाकिस्तान, खाड़ी देश सहित कई अन्य देशों में देखी जाती हैं। अंतराष्ट्रीय फिल्मों की जब बात आती है तब दिमाग में एक ही नाम आता है वह है हॉलीवुड और इसी तरह हिंदी फिल्मों की चर्चा में बॉलीवुड का नाम आता है। फिल्मों के शौकीन दर्शकों के लिए हालाँकि हॉलीवुड और बॉलीवुड कोई नए शब्द नहीं हैं फिर भी बहुत लोग यह जरूर जानना चाहते हैं कि हॉलीवुड क्या है, बॉलीवुड क्या है, क्या हॉलीवुड की तरह बॉलीवुड नाम का कोई स्थान है, क्या बॉलीवुड पुरे भारतीय फिल्म इंडस्ट्री को कहा जाता है? हॉलीवुड और बॉलीवुड में क्या अन्तर है आदि।

यदि आप भी जानना चाहते हैं जैसे हॉलीवुड क्या है, बॉलीवुड क्या है, क्या हॉलीवुड की तरह बॉलीवुड नाम का कोई स्थान है, क्या बॉलीवुड पुरे भारतीय फिल्म इंडस्ट्री को कहा जाता है? हॉलीवुड और बॉलीवुड में क्या अन्तर है, तो आप बिलकुल सही जगह पर हैं और आपको यह लेख शुरू से अंत तक पूरा पढ़ना चाहिए।

हॉलीवुड और बॉलीवुड में क्या अंतर है




हॉलीवुड क्या है             What is Hollywood


दुनिया के सबसे प्रसिद्ध और लोकप्रिय फिल्म इंडस्ट्रीज की बात करें तो सबसे पहला नाम जो आता है वह अमेरिका में स्थित फिल्म इंडस्ट्री हॉलीवुड है। हॉलीवुड की फिल्मे भारत सहित पूरी दुनियां में देखी जाती है। हॉलीवुड में हर साल तक़रीबन 500 फिल्मे बनती हैं और दुनिया भर में इसके लगभग 2.6 अरब दर्शक हैं। हॉलीवुड में साइंस फिक्शन से लेकर हर टॉपिक पर और पूरी दुनिया के लिए फिल्मे बनती हैं। दुनिया की टॉप 50 फिल्मों का निर्माण हॉलीवुड में ही हुआ है।

हॉलीवुड और बॉलीवुड में क्या अंतर है



हॉलीवुड जिसे टिनसेलटाउन(Tinseltown) भी कहा जाता है, लॉस एंजिल्स, कैलिफोर्निया, अमेरिका का एक जिला है, जहां फिल्म, टीवी शोज बनाए जाते है। यहाँ फिल्म शूटिंग के लिए बहुत सारे स्टूडियो बने हुए हैं। अमेरिका की अधिकांश फ़िल्में यहीं बनती है। अमेरिका की पहली फिल्म साल 1903 में साइलेंट मूवी के रूप में बनाई गई। तभी से हॉलीवुड इंडस्ट्री की शुरुवात हुई। 1911 में सनसेट बोलवर्ड नामक स्थान पर सबसे पहले स्टूडियो बनाया गया और यह हॉलीवुड का पहला स्टूडियो बना। आज हॉलीवुड में कई ऐतिहासिक स्टूडियो मौजूद हैं। रियल एस्टेट कारोबारी एच. जे. विटले (H.J. Whitley) को हॉलीवुड का पिता (Father of Hollywood) कहा जाता है। इन्होंने ही अमेरिका की फिल्म इंडस्ट्री को हॉलीवुड नाम दिया।

हॉलीवुड और बॉलीवुड में क्या अंतर है



अमेरिकन फिल्म इंडस्ट्रीज में अधिकतर मूवी साइंस फिक्शन और वार जैसे विषय पर बनाई जाती है ऐसा हॉलीवुड की शुरुआत से ही है अगर आप इसके इतिहास को देखेंगे तो पाएंगे कि अधिकतर फिल्में साइंस फिक्शन और वार पर ही बनाई गयी हैं। यहाँ की फिल्में प्रायः ओरिजिनल थीम और नए आइडियाज पर बनायीं जाती हैं। इन फिल्मों का बजट भी हजारों करोड़ होता है। दृश्यों को रिअलिस्टिक और रोमांचक बनाने के लिए उन्नत और आधुनिक टेक्नोलॉजी का प्रयोग किया जाता है।


हॉलीवुड ने विश्व को सैकड़ों बेहतरीन फ़िल्में दी हैं। कला, तकनीक, स्क्रिप्ट, अभिनय और अपने स्पेशल इफेक्ट्स की वजह से ये फिल्मे कालजयी हो गयी हैं। कमाई के मामले में भी हॉलीवुड की फ़िल्में अपने निर्माताओं को मालामाल किया है। प्रस्तुत है कुछ बेहतरीन हॉलीवुड की फ़िल्में :

अवतार (2010)

स्टार्स : सैम वर्थिंग्टन, जो सल्डाना, स्टेफेन लांग, सिगौरने वीवर आदि।

इन्सेप्शन

स्टार्स : लेओनार्डो डी केप्रिओ, केन वतनबल, मरियन कोटिलार्ड, एलेन पेज, टॉम हार्डी आदि

स्पाइडर मैन : नो वे होम

स्टार्स : टॉम हॉलैंड, बेनेडिक्ट कम्बरबैच, ज़ेन्डया, मारिसा टॉमी, जॉन फवरेऊ, अल्फ्रेड मोलिना आदि।

टाइटैनिक

स्टार्स : लिओनार्दो डी केप्रिओ, केट विंस्लेट, बिली जेन, कैथी बेट्स आदि।

पाइरेट्स ऑफ़ द कैरिबियन: द कर्स ऑफ़ ब्लैक पर्ल

स्टार्स : जॉनी डेप, जेओफ्री रश, ओरिएंडो ब्लूम, किएरा नाइटली आदि।





बॉलीवुड क्या है             What is Bollywood


बॉलीवुड भारतीय फिल्मों के परिप्रेक्ष्य में प्रयोग होने वाला एक बहुत ही लोकप्रिय नाम बन गया है हालाँकि यह पुरे भारतीय सिनेमा का प्रतिनिधित्व नहीं करता बल्कि यह सिर्फ मुंबई फिल्म इंडस्ट्री का एक उपनाम है। हॉलीवुड की तर्ज पर मुंबई जिसे पहले बम्बई या बॉम्बे कहा जाता था की फिल्म इंडस्ट्री को बॉलीवुड कहा जाने लगा। इसमें हॉलीवुड के "हा" की जगह बॉम्बे का "बॉ" लगा कर बॉलीवुड प्रयोग किया जाने लगा। लोगों को यह नाम इतना पसंद आया कि कुछ ही दिनों में यह लोगों की जुबान पर चढ़ गया और लोग मुंबई फिल्म इंडस्ट्री कहना भूलने लगे।

हॉलीवुड और बॉलीवुड में क्या अंतर है



बॉलीवुड में फिल्में हिंदी भाषा में बनाई जाती है। बॉलीवुड की शुरुवात साल 1913 में राजा हरीशचंद्र स्लाइंट मूवी द्वारा हुई थी। बॉलीवुड सिनेमा में हर साल कई तरह की फिल्मे बनाई जाती है। जैसे ड्रामा, कॉमेडी, रोमांस और एक्शन मूवी। 1930 तक अमेरिकन फिल्म इंडस्ट्री यानी हॉलीवुड का नाम दुनियाभर में फेमस होने लगा था, लेकिन भारत में फिल्म उद्योग को हिन्दी फिल्म इंडस्ट्री के नाम से ही बुलाया जाता था। बॉलीवुड को बॉलीवुड कहलाने का श्रेय बंगाल के सिनेमा को भी दिया जाना चाहिए. दरअसल, 1930 में बंगाली फिल्म इंडस्ट्री कलकत्ता के ‘टॉलीगंज’ नाम के एक क्षेत्र में हुआ करती थी. इसी के बारे में लिखते हुए पहली बार जूनियर स्टेट्समैन नाम की मैगजीन ने ‘टॉलीवुड’ शब्द का प्रयोग किया। हालांकि अब टॉलीवुड शब्द का प्रयोग तेलुगू सिनेमा के लिए किया जाता है.

बांग्ला सिनेमा का यह नाम फेमस होने के साथ ही हिन्दी फिल्म इंडस्ट्री ने हॉलीवुड में से ‘एच’ को हटा कर ‘बी’ लगाया और बॉलीवुड कर दिया। उस दौर में मुंबई को बम्बई या बॉम्बे कहा जाता था , इसलिए बॉलीवुड में ‘बी’ अक्षर को प्रमुखता देते हुए यह नाम रखा गया। 70 के दशक तक इसे दुनिया भर में इसी नाम से जाना जाने लगा।

हॉलीवुड और बॉलीवुड में क्या अंतर है



क्या हॉलीवुड की तरह बॉलीवुड नाम का कोई स्थान है


जैसा कि हम जानते हैं बॉलीवुड मुंबई फिल्म इंडस्ट्री का एक लोकप्रिय नाम है। यहाँ हिंदी के अतिरिक्त कुछ अन्य भाषाओँ में फिल्मे बनायीं जाती हैं। मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को हॉलीवुड की तर्ज पर बॉलीवुड बोला जाता है इस नाम का कोई स्थान नहीं है।

हॉलीवुड और बॉलीवुड में क्या अंतर है


क्या बॉलीवुड पुरे भारतीय फिल्म इंडस्ट्री को कहा जाता है?


बॉलीवुड केवल मुंबई में स्थित फिल्म इंडस्ट्री को कहा जाता है जबकि पुरे भारत में कई अन्य जगहों पर भी फिल्मे बनती हैं। उदाहरण के लिए बांग्ला फिल्म इंडस्ट्री, तमिल फिल्म इंडस्ट्री, तेलगु फिल्म इंडस्ट्री आदि। बॉलीवुड की तर्ज पर भारत में अलग अलग भाषा में तथा कई अन्य देशो की फिल्म इंडस्ट्री के अलग अलग उपनाम प्रचलित हैं।


अलग अलग भाषा में बनने वाली फिल्म इंडस्ट्रीज और उनके उपनाम

  • ऑलीवुड: उड़िया फिल्म इंडस्ट्री

  • मॉलीवुड: मलयालम फिल्म इंडस्ट्री

  • कॉलीवुड: तमिल फिल्म इंडस्ट्री

  • सैंडलवुड: कन्नड फिल्म इंडस्ट्री

  • सॉलीवुड: सिंधी फिल्म इंडस्ट्री

  • लॉलीवुड: पाकिस्तान फिल्म इंडस्ट्री जहां उर्दू और पंजाबी भाषा की फिल्में बनाई जाती हैं

  • ढालीवुड: ढाका की बांग्लादेशी फिल्म इंडस्ट्री

  • कारीवुड: कराची की पाकिस्तानी फिल्म इंडस्ट्री

  • कालीवुड: काठमांडु की नेपाली फिल्म इंडस्ट्री

  • पॉलीवुड: पंजाबी और पश्तो सिनेमा

हॉलीवुड और बॉलीवुड में क्या अंतर है


बॉलीवुड ने मसाला फिल्मों के अलावा कई बेहतरीन फिल्मों से भी दुनियां का परिचय कराया है और पुरे फिल्मजगत में अपनी रचनात्मकता, कला और बेहतरीन अभिनय का लोहा मनवाया है। कुछ बेहतरीन बॉलीवुड फिल्मे :

मदर इंडिया (1957)

स्टार्स : नरगिस, सुनील दत्त, राजेंद्र कुमार आदि।

मुग़ल ए आज़म (1960)

स्टार्स: दिलीप कुमार, मधुबाला, पृथ्वी राज कपूर आदि।

शोले (1975)

स्टार्स : धर्मेंद्र, अमिताभ बच्चन, संजीव कुमार, अमज़द खान, हेमा मालिनी, जया भादुड़ी आदि।

लगान (2001)

स्टार्स : आमिर खान, ग्रेसी सिंह आदि।

दंगल (2016)

स्टार्स : आमिर खान, फातिमा सना शेख, साक्षी तंवर आदि।


हॉलीवुड और बॉलीवुड में क्या अंतर है


हॉलीवुड और बॉलीवुड के शुरुवाती दिनों को देखें तो दोनों में ज्यादा अंतर नहीं है। हॉलीवुड की शुरुवात 1903 में एक साइलेंट फिल्म के साथ हुई तो वहीँ बॉलीवुड की शुरुवात 1913 में राजा हरिश्चंद्र नामक फिल्म से हुई।

  • हॉलीवुड अमेरिकन फिल्म इंडस्ट्री का प्रतिनिधित्व करता है जबकि बॉलीवुड भारत के मुंबई फिल्म इंडस्ट्री या हिंदी फिल्म इंडस्ट्री का प्रतिनिधित्व करता है जो कि पुरे भारतीय सिनेमा का केवल एक हिस्सा मात्र है।

  • हॉलीवुड अमेरिका के कैलिफोर्निया राज्य का एक जिला है जबकि बॉलीवुड का कोई भौतिक वजूद नहीं है। यह मुंबई फिल्म इंडस्ट्री का केवल एक लोकप्रिय नाम है।

  • हॉलीवुड एक स्थान विशेष का नाम है जबकि बॉलीवुड हॉलीवुड की तर्ज पर बनाया गया एक नाम है।

  • हॉलीवुड फिल्मों का बजट बहुत ज्यादा होता है। उनकी ज्यादातर फिल्मे हजारों करोड़ रुपये के लागत से तैयार होती हैं वहीँ बॉलीवुड में फिल्मों का बजट कुछ सौ करोड़ रूपए ही होता है।

  • हॉलीवुड फिल्मों में बहुत ही उन्नत और मॉडर्न टेक्नोलॉजी का प्रयोग किया जाता है जिससे फिल्मों के दृश्य एकदम रियल और रोमांचक होते हैं। बॉलीवुड में इस तरह की टेक्नोलॉजी जैसे VFX का प्रयोग काफी कम होता है।

  • संख्या की दृष्टि से देखा जाये तो हॉलीवुड में बॉलीवुड से कम फिल्मे प्रतिवर्ष बनती हैं।

  • हॉलीवुड में फिल्मे सभी टॉपिक पर जैसे साइंस फिक्शन, इतिहास, वॉर, कॉमेडी आदि पर फिल्मे बनती हैं वहीँ बॉलीवुड में ज्यादातर फिल्मे रोमांस, ड्रामा, कॉमेडी और पारिवारिक बनती हैं।

  • हॉलीवुड में अधिकांश फिल्मे ओरिजिनल और नए आइडियाज पर बनती हैं जबकि बॉलीवुड में ज्यादातर फिल्मे रीमेक या किसी दूसरी भाषा की कॉपी होती हैं।

  • हॉलीवुड की फिल्मों में नाच गानों का ज्यादा महत्व नहीं होता। ज्यादातर गाने बैकग्राउंड म्यूजिक में मिलते हैं जबकि बॉलीवुड की फिल्मों में नाच गाने फिल्म का अनिवार्य हिस्सा होते हैं।
हॉलीवुड और बॉलीवुड में क्या अंतर है


  •  अब बात करते हैं कॉमेडी की जो दोनों फिल्म इंडस्ट्रीज की मूवी में देखने को मिलती है लेकिन इनका तरीका अलग अलग होता है हॉलीवुड में कॉमेडी छोटी छोटी घटनाओं के जरिये दिखाया जाता है जबकि बॉलीवुड में एक्टर संवाद करके कॉमेडी करते हैं।

  • हॉलीवुड में एक्टर्स की अपेक्षा फिल्मों के बैनर और प्रोडक्शन हाउस मशहूर होते हैं जबकि बॉलीवुड में हीरो हीरोइन के नाम से लोग फिल्मे देखने जाते हैं।

  • हॉलीवुड की अधिकतर फिल्मे 1 -1.5 घंटे की ही होती हैं और कोई कोई फिल्म 3 घंटे तक की हो सकती है जबकि बॉलीवुड की फिल्मे अधिकतर 2 -3 घंटे तक की होती है।


उपसंहार

हॉलीवुड और बॉलीवुड दोनों ही तरह की फिल्मों की अपनी विशेषताएं हैं। हॉलीवुड जहाँ अमेरिकन फिल्म इंडस्ट्री का प्रतिनिधित्व करता है वहीँ बॉलीवुड से मुंबई फिल्म इंडस्ट्री का बोध होता है। हॉलीवुड जहाँ एक स्थान का नाम है वहीँ बॉलीवुड नाम का कोई स्थान नहीं है। हॉलीवुड फिल्मे अपनी स्टोरी, स्पेशल इफेक्ट्स, आधुनिक तकनीक की वजह से जानी जाती हैं तो वहीँ बॉलीवुड की फ़िल्में अपने नृत्य, गीत और संगीत के लिए जानी जाती हैं। इसी तरह बजट और कमाई के मामले में हॉलीवुड की फ़िल्में भारी हैं तो एक साल के भीतर बनने वाली फिल्मों की संख्या के मामले में बॉलीवुड काफी आगे है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ